Breaking News

शुक्रवार, 1 मई 2020

लम्बे लॉकडाउन में भरण पोषण के लिए परमार्थ ने दिया सहारा Paramarth provided support to maintain the long lockdown

लम्बे लॉकडाउन में भरण पोषण के लिए परमार्थ ने दिया सहारा  Paramarth provided support to maintain the long lockdown    संवाददाता, Journalist Anil Prabhakar.                 www.upviral24.in  

लम्बे लाॅकडाउन में भरण पोषण के लिए परमार्थ ने दिया सहारा

उरई। कोरोना संकट के कारण लगातार खिच रहे लाॅकडाउन से कई घरों में खाने के लाले पड़ गये हैं। खासतौर से झारखंड से यहां आकर बसे कचरा बीनने वाले प्रवासियों की तरह के बाहरी मजदूर जिनका राशन पानी कब का खत्म हो चुका है। प्रशासन तो इनकी चिंता कर ही रहा है लेकिन इनकी तादात इतनी बड़ी है कि जब तक अन्य सामाजिक संस्थायें और लोग हाथ नहीं बंटायेंगे तब तक ऐसे सभी लोगों की भरण पोषण की समस्या हल होना मुश्किल है। बुन्देलखण्ड की जल संरक्षण के लिए चर्चित, नामी गिरामी सामाजिक संस्था परमार्थ ने इसको समझा और इसमें अपना योगदान करने के लिए जुट पड़ी। जिसमें उसे साथ मिला हिन्दुस्तान यूनीलीवर का। इस नेक कार्य में संस्था की पीठ थपथपाने के लिए न्यायिक और प्रशासनिक अधिकारी भी आगे आ गये।
परमार्थ समाज सेवी संस्थान द्वारा हिन्दुस्तान यूनीलीवर के सहयोग से जिले के विभिन्न भागों में अभावग्रस्त परिवारों को चिहिंत कर उनके घर रसद और सेनिटाइजेशन की सामग्री पहुंचायी जा रही है। माधौगढ़ और रामपुरा ब्लाक के 500 ऐसे चिहिंत परिवारों को संस्था के कार्यकर्ताओं ने उनके दरवाजे पर सरकारी प्रतिनिधि की उपस्थिति में सामग्री पहुंचायी। उरई तहसील के रेवा, सरसौखी, रगौली व राहिया में भी लगभग 150 परिवारों को सामग्री वितरित की गई। एक परिवार को जो सामग्री दी जा रही है उसमें पांच किलो आटा, पांच किलो चावल, एक किलो दाल, एक लीटर सरसों का तेल, हल्दी, धनिया और अन्य मिर्च मसाले, एक नमक का पैकिट, 250 ग्राम चाय पत्ती, एक किलो चीनी, पांच रिन साबुन व पांच नहाने के साबुन शामिल रहते हैं। कार्यकर्ता अभिवादन की मुद्रा में उन्हें वितरण करके जताते हैं कि यह मदद देकर संस्था स्वयं धन्य हो रही है ताकि किसी में हीन भावना का संचार न हो। साथ ही शारीरिक दूरी का पालन करने के साथ-साथ दिये गये साबुन का कई बार हाथ धोने में प्रयोग करने की नसीहत देते हैं।
शहर में भी यह अभियान चल रहा है। शुक्रवार को मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट विवेक कुमार सिंह और तहसीलदार कर्मवीर सिंह ने संस्था के कार्यकर्ताओं के साथ रहकर वितरण किया। इस दौरान लेखपाल दिग्विजय और न्यायिक कार्मिक अश्वनी मिश्रा भी मौजूद रहे। 

Paramarth provided support to maintain the long lockdown

Orai. Due to the continuous breakdown of the Corona crisis, many houses have been eaten by food. Particularly like the migrant waste migrants who have come here from Jharkhand and the external laborers whose ration water has been exhausted. The administration is worrying about them, but their number is so large that unless other social institutions and people will not share their hands, it is difficult to solve the problem of sustenance of all such people. Parmarth, a well-known social organization known for water conservation of Bundelkhand, understood this and started to contribute to it. In which he got with Hindustan Unilever. Judicial and administrative officers also came forward to pat the institution on this noble cause.
In collaboration with Hindustan Unilever, the Parmarth Samaj Sevi Sansthan has identified the families of the disadvantaged in various parts of the district and is providing them the materials of their home logistics and sanitization. Activists of the 500 such identified families of Madhaugarh and Rampura blocks delivered the material to their doorstep in the presence of a government representative. The material was distributed to about 150 families in Rewa, Sarsoukhi, Ragauli, and Rahia of Orai Tehsil. The ingredients being given to a family include five kilograms of flour, five kilograms of rice, one kilo of lentils, one liter of mustard oil, turmeric, coriander and other chili spices, a salt packet, 250 grams of tea leaves, one kilo of sugar, Five Rin soaps and five bath soaps are included. The activists distribute them in the exchange of greetings and show that the organization is being blessed by giving this help so that there is no inferiority complex. Also, along with the following physical distance, we give the advice to use soap given in washing hands several times.
This campaign is also going on in the city. On Friday, Chief Judicial Magistrate Vivek Kumar Singh and Tehsildar Karmaveer Singh distributed along with the workers of the institution. Lekhpal Digvijay and judicial personnel Ashwani Mishra were also present during this period.





कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

Post Top Ad

Pages