Breaking News

गुरुवार, 14 मई 2020

प्रदेश में कोई भी व्यक्ति भूखा नहीं रहना चाहिए, खाद्यान्न उपलब्ध कराया जाए -मुख्यमंत्री योगी No person should be hungry in the state, food should be made available - Chief Minister Yogi

प्रदेश में कोई भी व्यक्ति भूखा नहीं रहना चाहिए, खाद्यान्न उपलब्ध कराया जाए -मुख्यमंत्री योगी  No person should be hungry in the state, food should be made available - Chief Minister Yogi       संवाददाता, Journalist Anil Prabhakar.                 www.upviral24.in

प्रदेश में कोई भी व्यक्ति भूखा नहीं रहना चाहिए, खाद्यान्न उपलब्ध कराया जाए -मुख्यमंत्री योगी  No person should be hungry in the state, food should be made available - Chief Minister Yogi       संवाददाता, Journalist Anil Prabhakar.                 www.upviral24.in

प्रदेश में कोई भी व्यक्ति भूखा नहीं रहना चाहिए, खाद्यान्न उपलब्ध कराया जाए -मुख्यमंत्री योगी  No person should be hungry in the state, food should be made available - Chief Minister Yogi       संवाददाता, Journalist Anil Prabhakar.                 www.upviral24.in

प्रदेश में कोई भी व्यक्ति भूखा नहीं रहना चाहिए, खाद्यान्न उपलब्ध कराया जाए -मुख्यमंत्री योगी  No person should be hungry in the state, food should be made available - Chief Minister Yogi       संवाददाता, Journalist Anil Prabhakar.                 www.upviral24.in


उ0प्र0 प्रदेश में कोई भी व्यक्ति भूखा नहीं रहना चाहिए, हर परिवार को आवश्यकतानुसार खाद्यान्न उपलब्ध कराया जाए : मुख्यमंत्री क्वारंटीन सेन्टर / आश्रय स्थल में प्रवासी कामगारों / श्रमिकों के अच्छी तरह से रहने के लिए सभी आवश्यक प्रबन्ध किए जाए प्रवासी कामगारों / श्रमिकों की सुरक्षित एवं सम्मानजनक ढंग से वापसी कराई जाए यह सुनिश्चित किया जाए कि कोई भी प्रवासी कामगार / श्रमिक पैदल , दोपहिया वाहन आदि किसी भी असुरक्षित साधन से यात्रा न करें , इन्हें बस , ट्रेन जैसे सुरक्षित साधनों से पहुंचाने की व्यवस्था की जाए सभी जनपदों में पर्याप्त संख्या में थर्मल स्कैनर / अल्ट्रारेड थर्मामीटर उपलब्ध कराने के निर्देश टेस्टिंग क्षमता में वृद्धि करते हुए इसे इस सप्ताह के अन्त तक 10,000 टेस्ट प्रतिदिन किया जाए निगरानी समितियों के सर्विलांस कार्य को सुदृढ़ बनाने तथा मुख्यमंत्री हेल्प लाइन के माध्यम से इन समितियों से नियमित संवाद बनाए रखने के निर्देश अधिक से अधिक लोगों को ' आरोग्य सेतु ' तथा ' आयुष कवच -कोविड एप डाउनलोड करने के लिए प्रोत्साहित किया जाए रोजगार की दृष्टि से प्रवासी कामगारों / श्रमिकों को एम ० एस ० एम 0 ई 0 सेक्टर से जोड़ने के लिए उनकी स्किल मैपिंग का कार्य निरन्तर जारी रखा जाए महिला स्वयं सहायता समूहों द्वारा तैयार किए गए अचार , पापड़ आदि की कम्युनिटी किचन में आपूर्ति की जाए . इन समूहों को मास्क तथा अंगौछा तैयार करने के कार्यों से जोड़ जाए लखनऊ : 14 मई , 2020 उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी ने कहा है कि प्रदेश में कोई भी व्यक्ति भूखा नहीं रहना चाहिए । हर परिवार को आवश्यकतानुसार खाद्यान्न उपलब्ध कराया जाए । मुख्यमंत्री जी आज यहां अपने सरकारी आवास पर आहूत एक उच्च स्तरीय बैठक में लॉकडाउन व्यवस्था की समीक्षा कर रहे थे । उन्होंने कहा कि क्वारंटीन सेन्टर / आश्रय स्थल में प्रवासी कामगारों / श्रमिकों के अच्छी तरह से रहने के लिए सभी आवश्यक प्रबन्ध किए जाएं । यह सुनिश्चित किया जाए कि क्वारंटीन सेन्टर / आश्रय स्थल में साफ - सफाई की समुचित व्यवस्था हो । प्रवासी कामगारों / अमिकों को शुद्ध एवं पर्याप्त मात्रा में भोजन उपलब्ध कराया जाए । मुख्यमंत्री जी ने कहा कि प्रवासी कामगारों / अमिकों की सुरक्षित एवं सम्मानजनक ढंग से वापसी कराई जाए । यह सुनिश्चित किया जाए कि कोई भी प्रवासी कामगार / श्रमिक पैदल , दोपहिया वाहन आदि किसी भी असुरक्षित साधन से यात्रा न करें । इन्हें बस , ट्रेन जैसे सुरक्षित साधनों से पहुंचाने की व्यवस्था की जाए । उन्होंने कहा कि गृह जनपद में क्वारंटीन सेन्टर पर प्रवासी कामगार / श्रमिक की थर्मल स्कैनिंग की जाए । कोरोना की दृष्टि से संदिग्ध प्रवासी कामगार / श्रमिक की पूल टेस्टिंग के माध्यम से मेडिकल जांच की जाए । जो बिल्कुल स्वस्थ हों , उन्हें राशन किट उपलब्ध कराते हुए होम क्वारंटीन के लिए सुरक्षित घर पहुंचाया जाए । होम क्वारंटीन के दौरान उन्हें 1,000 रुपए का भरण - पोषण भत्ता भी उपलब्ध कराया जाए । मुख्यमंत्री जी ने कहा कि यह सुनिश्चित किया जाए कि लोग मास्क / फेस कवर लगाकर ही बाहर निकलें । उन्होंने कहा कि लॉकडाउन के दौरान सप्लाई चेन के सुचारू संचालन से लोगों को आवश्यक सामग्री सुगमतापूर्वक प्राप्त हो रही हैं । सुनिश्चित किया जाए कि यह व्यवस्था इसी प्रकार प्रभावी ढंग से जारी रहे । मुख्यमंत्री जी ने सभी जनपदों में पर्याप्त संख्या में थर्मल स्कैनर / अल्ट्ररेड थर्मामीटर उपलब्ध कराने के निर्देश दिए । उन्होंने कहा कि टेस्टिंग क्षमता में वृद्धि करते हुए इसे इस सप्ताह के अन्त तक 10,000 टेस्ट प्रतिदिन किया जाए । सभी वेन्टीलेटरों को क्रियाशील रखा जाए । अधिक से अधिक चिकित्सा कर्मियों को वेन्टीलेटर संचालन की ट्रेनिंग दी जाए । उन्होंने कहा कि स्वास्थ्य विभाग के प्रोटोकॉल के अनुरूप इमरजेंसी मेडिकल सेवाओं का संचालन कराया जाए । इसके लिए जरूरी है कि नर्सिंग होम व निजी अस्पतालों सहित सभी चिकित्सालयों में पी 0 पी 0 ई 0 किट , एन -95 मास्क तथा सेनिटाइजर की पर्याप्त उपलब्धता बनी रहे । मुख्यमंत्री जी ने कहा कि यह सर्वविदित है कि इम्युनिटी को विकसित कर कोविङ -19 से बचा जा सकता है । शरीर की प्रतिरोधक क्षमता में वृद्धि के उद्देश्य से भारत सरकार ने ' आरोग्य सेतु ' एप तथा प्रदेश सरकार ने ' आयुष कवच - कोविड एप लॉन्च किया है । इसका व्यापक प्रचार प्रसार करते हुए अधिक से अधिक लोगों को ' आरोग्य सेतु तथा ' आयुष कवच - कोविड एप डाउनलोड करने के लिए प्रोत्साहित किया जाए । मुख्यमंत्री जी ने कहा कि सभी 75 जनपदों में सम्बन्धित जिलाधिकारी को सहयोग प्रदान करने के लिए नामित किए गए आई ० ए ० एस ० अधिकारी तथा वरिष्ठ पी ० सी ० एस ० अधिकारी द्वारा क्वारंटीन सेन्टर / शेल्टर होम तथा कम्युनिटी किचन की साफ - सफाई एवं सुरक्षा प्रबन्धों का निरन्तर अनुश्रवण करते हुए व्यवस्थाओं को बेहतर बनाया जाए । होम क्वारंटीन में रहने वाले प्रवासी कामगार / श्रमिक की निगरानी के लिए निगरानी समितियों के सर्विलांस कार्य को सुदृढ़ किया जाए । मुख्यमंत्री हेल्पलाइन द्वारा अधिक से अधिक निगरानी समितियों से संवाद कर इनकी मॉनिटरिंग की जाए । बैठक में यह जानकारी दी गई कि सर्विलांस टीम द्वारा अब तक 03 करोड़ से अधिक लोगों को सर्वेक्षित किया जा चुका है । मुख्यमंत्री जी ने कहा कि चुनौती को अवसर में बदलने के लिए कठिन समय में सकारात्मक सोच के साथ प्रयास करने की आवश्यकता है । एम ० एस ० एम ० ई ० सेक्टर में रोजगार की असीम सम्भावनाएं हैं । रोजगार की दृष्टि से प्रवासी कामगारों / अमिकों को इस सेक्टर से जोड़ने के लिए उनकी स्किल मैपिंग का कार्य निरन्तर जारी रखा जाए । मुख्यमंत्री जी ने कहा कि महिला स्वयं सहायता समूहों द्वारा तैयार किए गए अचार , पापड़ आदि की कम्युनिटी किचन में आपूर्ति की जाए । इससे समूहों के उत्पाद की सुनिश्चित बिक्री को प्रोत्साहन मिलेगा । उन्होंने कहा कि बेहतर स्वास्थ्य के लिए मास्क और अंगौछे आवश्यक हैं । वर्तमान समय में इनकी मांग भी अधिक है । इसके दृष्टिगत महिला स्वयं सहायता समूहों को मास्क तथा अंगौछा तैयार करने के कार्यों से जोड़ते हुए समूहों की आय में वृद्धि की जा सकती है । इस अवसर पर चिकित्सा शिक्षा मंत्री श्री सुरेश खन्ना , स्वास्थ्य मंत्री श्री जय प्रताप सिंह , स्वास्थ्य राज्यमंत्री श्री अतुल गर्ग , मुख्य सचिव श्री आर 0 के 0 तिवारी , कृषि उत्पादन आयुक्त श्री आलोक सिन्हा , अवस्थापना एवं औद्योगिक विकास आयुक्त श्री आलोक टण्डन , अपर मुख्य सचिव सूचना एवं गृह श्री अवनीश कुमार अवस्थी , अपर मुख्य सचिव राजस्व श्रीमती रेणुका कुमार , अपर मुख्य सचिव वित्त श्री संजीव मित्तल , पुलिस महानिदेशक श्री हितेश सी 0 अवस्थी , प्रमुख सचिव स्वास्थ्य श्री अमित मोहन प्रसाद , प्रमुख सचिव चिकित्सा शिक्षा श्री रजनीश दुबे , प्रमुख सचिव मुख्यमंत्री श्री एस 0 पी 0 गोयल तथा श्री संजय प्रसाद , प्रमुख सचिव एम ० एस ० एम ० ई ० श्री नवनीत सहगल , प्रमुख सचिव ग्राम्य विकास एवं पंचायतीराज श्री मनोज कुमार सिंह , प्रमुख सचिव कृषि डॉ 0 देवेश चतुर्वेदी , प्रमुख सचिव पशुपालन श्री भुवनेश कुमार , सचिव मुख्यमंत्री श्री आलोक कुमार , सूचना निदेशक श्री शिशिर सहित अन्य वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे ।


No person should be hungry in Uttar Pradesh, food should be made available to every family as per the need: All necessary arrangements should be made for the well being of the migrant workers/workers in the Chief Minister's Quarantine Center/shelter site, safe and secure of the migrant workers/workers. The return should be done in a respectful manner to ensure that any migrant workers/laborers on foot, two-wheelers Do not travel by any unsafe means such as vehicles, etc. Arrangements should be made to deliver them by safe means such as buses, trains, etc. Instructions for providing the adequate number of thermal scanners / ultra-thermometers in all districts will be increased this week by increasing testing capacity. 10,000 tests should be done daily until the end. Strengthening surveillance work of monitoring committees and the Chief Minister's help Instructions to maintain regular dialogue with these committees through online should encourage more and more people to download the 'Arogya Setu' and 'Aayush Kavach - Covid App'. In terms of employment, the migrant workers/workers should get MSME The work of skill mapping to connect them to the E.E sector should be continued continuously. Community kitchens of pickles, Papas, etc. prepared by women self-help groups To be supplied. These groups should be associated with the task of preparing masks and angouchas Lucknow: May 14, 2020, Uttar Pradesh Chief Minister Yogi Adityanath Ji has said that no person should be hungry in the state. Food should be made available to every family as per the requirement. The Chief Minister was reviewing the lockdown system at a high-level meeting convened at his government residence here today. He said that all necessary arrangements should be made for the well being of the migrant workers/workers in the quarantine center/shelter. It should be ensured that proper arrangements are made in the Quarantine Center/shelter site. Pure and adequate food should be provided to migrant workers/workers. The Chief Minister said that the return of migrant workers/workers should be done safely and respectfully. It should be ensured that no migrant workers/laborers travel by any unsafe means on foot, two-wheelers. Arrangements should be made to deliver them by safe means such as buses, trains. He said that the thermal scanning of migrant workers/laborers should be done at the Quarantine Center in the home district. From the point of view of corona, a medical examination should be done through pool testing of suspected migrant workers/workers. Those who are absolutely healthy should be provided a safe home for home quarantine by providing ration kits. During the home quarantine, a maintenance allowance of Rs 1,000 should also be made available to them. The Chief Minister said that it should be ensured that people go out only after putting on masks/face covers. He said that the smooth running of the supply chain during the lockdown is facilitating the people to get the required material easily. It should be ensured that this system continues in an effective manner. The Chief Minister instructed to provide an adequate number of thermal scanners / ultrared thermometers in all the districts. He said that it should be done 10,000 tests per day by the end of this week while increasing the testing capacity. All ventilators should be kept functional. Ventilator operation training should be given to maximum medical personnel. He said that emergency medical services should be made operational as per the protocol of the Health Department. For this, it is necessary that adequate availability of PPE kits, N-95 masks and sanitizers should be maintained in all hospitals including nursing homes and private hospitals. The Chief Minister said that it is well known that Covid-19 can be avoided by developing immunity. To increase the body's resistance, the Government of India has launched the 'Arogya Setu' app and the State Government has launched the 'Aayush Kavach - Covid App'. While spreading its wide publicity, more and more people should be encouraged to download 'Arogya Setu and' Ayush Kavach - Covid App. The Chief Minister said that in all 75 districts, the Quarantine Center / Shelter Home and Community Kitchen by the IAS officer and senior PCS officer nominated to provide support to the concerned District Magistrate  The systems should be improved by constantly monitoring the sanitation and security arrangements. The surveillance work of the monitoring committees should be strengthened to monitor the migrant workers/workers residing in the home quarantine. Chief Minister Helpline should be monitored by communicating with more and more monitoring committees. It was informed in the meeting that more than 03 crore people have been surveyed by the surveillance team so far. The Chief Minister said that there is a need to strive with positive thinking in difficult times to turn the challenge into an opportunity. There are immense possibilities for employment in the MSME sector. For the purpose of employment, the skill mapping of migrant workers/workers to be connected with this sector should be continued continuously. The Chief Minister said that pickles, Papas, etc. prepared by women self-help groups should be supplied in the community kitchen. This will encourage the assured sale of products to the groups. He said that masks and toes are essential for better health. At present, their demand is also high. In view of this, the income of the groups can be increased by connecting the women self-help groups with the task of preparing masks and gouaches. On this occasion, Medical Education Minister Mr. Suresh Khanna, Health Minister Mr. Jai Pratap Singh, Minister of State for Health Mr. Atul Garg, Chief Secretary Mr. RK Tiwari, Agriculture Production Commissioner Mr. Alok Sinha, Infrastructure and Industrial Development Commissioner Mr. Alok Tandon, Additional Chief Secretary Information and Home Shri Avneesh Kumar Awasthi, Additional Chief Secretary Revenue Mrs. Renuka Kumar, Additional Chief Secretary Finance Mr. Sanj Aiv Mittal, Director General of Police Shri Hitesh C Awasthi, Principal Secretary Health Shri Amit Mohan Prasad, Principal Secretary Medical Education Shri Rajneesh Dubey, Principal Secretary Chief Minister Shri SP Goel and Shri Sanjay Prasad, Principal Secretary MSME  Mr. Navneet Sehgal, Principal Secretary Rural Development and Panchayati Raj Mr. Manoj Kumar Singh, Principal Secretary Agriculture Dr. Devesh Chaturvedi, Principal Secretary Animal Husbandry Mr. Bhuv Esh Kumar, Chief Secretary Alok Kumar, Director Information other senior officials, including Mr. Shishir.








कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

Post Top Ad

Pages