Breaking News

गुरुवार, 14 मई 2020

मुख्यमंत्री योगी ने ऑनलाइन स्वरोजगार संगम कार्यक्रम का शुभारम्भ किया Chief Minister Yogi inaugurates online Swarojgar Sangam program

मुख्यमंत्री योगी ने ऑनलाइन स्वरोजगार संगम कार्यक्रम का शुभारम्भ किया  Chief Minister Yogi inaugurates online Swarojgar Sangam program          संवाददाता, Journalist Anil Prabhakar.                 www.upviral24.in

मुख्यमंत्री योगी ने ऑनलाइन स्वरोजगार संगम कार्यक्रम का शुभारम्भ किया  Chief Minister Yogi inaugurates online Swarojgar Sangam program          संवाददाता, Journalist Anil Prabhakar.                 www.upviral24.in


उ0प्र0 मुख्यमंत्री ने ऑनलाइन स्वरोजगार संगम कार्यक्रम का शुभारम्भ किया 56 हजार 754 उद्यमियों को 2 हजार 2 करोड़ 49 लाख रु 0 का ऋण ऑनलाइन वितरित किया , इससे दो से ढाई लाख लोगों को रोजगार मिलेगा लॉकडाउन के दृष्टिगत लाभार्थियों की सुविधा के लिए विभागीय योजनाओं जैसे ' मुख्यमंत्री युवा स्वरोजगार योजना ' , एक जनपद , एक उत्पाद ' योजना तथा विश्वकर्मा श्रम सम्मान योजना को ऑनलाइन किया एम०एस०एम0ई0 साथी पोर्टल एवं मोबाइल एप का शुभारम्भ केन्द्र सरकार द्वारा एम०एस०एम0ई0 सेक्टर हेतु दिये गये पैकेज के माध्यम से देश व प्रदेश में एम०एस०एम0ई0 सेक्टर सुदृढ़ होगा : मुख्यमंत्री मुख्यमंत्री ने जनपद गौतमबुद्ध नगर के तथा झांसी के लाभार्थियों से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से संवाद किया लोकल को ग्लोबल बनाकर ही भारत को आत्मनिर्भर बनाया जा सकता है प्रधानमंत्री जी की प्रेरणा से ही प्रदेश में ' एक जनपद , एक उत्पाद ' योजना लागू की गयी उत्तर प्रदेश में रोजगार की संभावनाओं को विकसित किये जाने की आवश्यकता है प्रवासी अमिक / कामगार बड़ी संख्या में एम०एस०एम0ई0 सेक्टर के माध्यम से रोजगार दिया जा सकता है गोरखपुर के टेराकोटा को जी आई 0 प्रोडक्ट में शामिल किया गया , इसे बौद्धिक सम्पदा का अधिकार प्राप्त होने के बाद , वैश्विक मान्यता प्राप्त होगी उत्तर प्रदेश के प्रत्येक प्रोडक्ट को बौद्धिक सम्पदा के दायरे में लाकर प्रदेश सरकार उसे प्रोत्साहित करेगी पी 0 पी 0 ई 0 किट , एन -95 मास्क तथा वेंटिलेटर्स जैसे चिकित्सीय उपकरण भी अब प्रदेश में बनने लगे हैं लखनऊ : 14 मई , 2020 उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी ने आज यहां अपने सरकारी आवास पर ऑनलाइन स्वरोजगार संगम कार्यक्रम का शुभारम्भ किया । इस अवसर पर मुख्यमंत्री जी ने 56 हजार 754 उद्यमियों को 2 हजार 2 करोड़ 49 लाख रुपये का ऋण ऑनलाइन वितरित किया । मुख्यमंत्री जी ने लॉकडाउन के दृष्टिगत लाभार्थियों की सुविधा के लिए विभागीय योजनाओं जैसे मुख्यमंत्री युवा स्वरोजगार योजना ' , ' एक जनपद , एक उत्पाद ' योजना तथा विश्वकर्मा श्रम सम्मान योजना को भी ऑनलाइन किया । उन्होंने एम०एस०एम0ई0 साथी पोर्टल एवं मोबाइल एप का शुभारम्भ भी किया । मुख्यमंत्री जी ने अपने सम्बोधन में कहा कि कोविङ -19 से उपजे हालात का सफलतापूर्वक सामना करने के उद्देश्य से ' आत्मनिर्भर भारत अभियान के अंतर्गत आदरणीय प्रधानमंत्री जी द्वारा 20 लाख करोड़ रुपये के विशेष आर्थिक पैकेज की घोषणा की है । इसके लिए उन्होंने प्रधानमंत्री जी तथा केन्द्रीय वित्त मंत्री के प्रति आभार व्यक्त किया है । उन्होंने कहा कि केन्द्र सरकार द्वारा एम०एस०एम0ई0 सेक्टर हेतु 03 लाख करोड़ रुपये के पैकेज की घोषणा की है । इसके माध्यम से देश व प्रदेश में एम०एस०एम0ई0 सेक्टर सुदृढ़ होगा । देश न केवल कोविड -19 वैश्विक महामारी से उबरने में सफल होगा , बल्कि आत्मनिर्भर , स्वावलम्बी व सशक्त भारत के रूप में दुनिया में बड़ी आर्थिक शक्ति बनकर उभरेगा । उन्होंने कहा कि उद्यमियों को आज वितरित किये गये ऋण से दो से ढाई लाख लोगों को रोजगार मिलेगा । मुख्यमंत्री जी ने श्रीमती श्वेता सिन्हा , श्रीमती शोभा देवी , श्रीमती डिम्पल त्रिवेदी , श्री अरुण प्रताप सिंह , श्रीमती रबजीत कौर , सुश्री मीनू वर्मा , सुश्री पूजा वर्मा , सुश्री स्वाती जैन तथा सुश्री अंजना शुक्ला को अपने हाथों से चेक प्रदान किया । इस अवसर पर मुख्यमंत्री जी ने जनपद गौतमबुद्ध नगर के लाभार्थी श्री मनीष कुमार तथा झांसी की सुश्री उदिता गुप्ता को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से संवाद स्थापित किया । मुख्यमंत्री जी ने कहा कि प्रधानमंत्री जी ने मेक इन इण्डिया को सदैव प्रोत्साहित किया है । लोकल को ग्लोबल बनाकर ही भारत को आत्मनिर्भर बनाया जा सकता है । उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री जी की प्रेरणा से ही प्रदेश में एक जनपद , एक उत्पाद ' योजना लागू की गयी । उत्तर प्रदेश में इस प्रकार की बहुत सारी चीजें हैं , जिनमें केवल लोकल ' ही नहीं बल्कि ग्लोबल ' बनने की क्षमता है । हमें अपनी चीजों को समय के अनुसार नई तकनीक एवं नई डिजाइन के साथ आगे बढ़ाने के लिए प्रयास करना होगा । उन्होंने कहा कि 2020 के यूनियन बजट में भी भारत सरकार ने एक जनपद , एक उत्पाद ' के लिए धन की व्यवस्था की तथा राज्यों से कहा कि उत्तर प्रदेश की तर्ज पर अपने यहां के लोकल प्रोडक्ट को प्रमोट करें । मुख्यमंत्री जी ने कहा कि उत्तर प्रदेश में रोजगार की संभावनाओं को विकसित किये जाने की आवश्यकता है , क्योंकि वैश्विक महामारी कोविड -19 के कारण राज्य में 20 से 25 लाख प्रवासी अमिक / कामगार प्रदेश में वापस आ रहे हैं । इन्हें बड़ी संख्या में एम०एस०एम0ई0 सेक्टर के माध्यम से रोजगार दिया जा सकता है । मुख्यमंत्री जी ने एस ० एल 0 बी 0 सी 0 के पदाधिकारियों , बैंकर्स कमेटी और एम०एस०एम0ई0 विभाग से जुड़े सभी अधिकारियों को बधाई दी । उन्होंने कहा कि गोरखपुर के टेराकोटा को जी 0 आई 0 प्रोडक्ट में शामिल किया गया है । उसे बौद्धिक सम्पदा का अधिकार प्राप्त होने के बाद , वैश्विक मान्यता प्राप्त होगी । इसी प्रकार , उत्तर प्रदेश के प्रत्येक प्रोडक्ट को बौद्धिक सम्पदा के दायरे में लाकर प्रदेश सरकार उसे प्रोत्साहित करेगी । मुख्यमंत्री जी ने कहा कि राज्य सरकार ने माटी कला बोर्ड का गठन किया है । इसके माध्यम से कुम्हारों को निःशुल्क मिट्टी उपलब्ध करायी जा रही है । इससे एक तरफ कुम्हारी कला को प्रोत्साहन मिल रहा है , वहीं दूसरी तरफ तालाब जल संरक्षण के माध्यम बन रहे हैं । मुख्यमंत्री जी ने कहा कि आज पूरे प्रदेश में कोविड -19 के लिए एल -1 , एल -2 व एल -3 के 55,000 बेड उपलब्ध कराये जा चुके हैं । प्रदेश के सभी 75 जनपदों में वेंटिलेटर्स उपलब्ध हैं । सैनिटाइज़र की कमी को दूर करने में प्रदेश के आबकारी व गन्ना विभाग ने महत्वपूर्ण भूमिका निभायी है । इसके परिणामस्वरूप उत्तर प्रदेश सैनिटाइजर की आपूर्ति करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहा है । उन्होंने कहा कि पी 0 पी 0 ई 0 किट , एन -95 मास्क तथा वेंटिलेटर्स जैसे चिकित्सीय उपकरण भी अब प्रदेश में बनने लगे हैं । ज्ञातव्य है कि एम०एस०एम0ई0 साथी पोर्टल पर कोई भी उद्यमी अपनी समस्या दर्ज कर सकता है । उनकी समस्याएं सम्बन्धित विभाग यथा - श्रम , विद्युत , जी 0 एस 0 टी 0 . बैंक , प्रदूषण नियंत्रण , स्थानीय निकाय आदि विभागों को पोर्टल के माध्यम से निस्तारण हेतु अग्रसारित की जाएंगी । एम०एस०एम0ई0 विभाग द्वारा इस समस्त निस्तारण प्रक्रिया का समन्वय किया जाएगा । आवेदक उद्यमियों को अपनी समस्याओं के निराकरण / आवेदनों के स्टेटस आदि के सम्बन्ध में रियल टाइम प्रगति अपने फोन पर ही प्राप्त कर सकेंगे । सूक्ष्म , लघु एवं मध्यम उद्यम मंत्री श्री सिद्धार्थनाथ सिंह ने कहा कि मुख्यमंत्री जी के नेतृत्व में प्रदेश सरकार विश्वव्यापी महामारी कोविड -19 में भी सम्भावनाओं को तलाश रही है । इसके दृष्टिगत एम०एस०एम0ई0 सेक्टर के उद्यमियों को ऋण वितरित किया जा रहा है । इस अवसर पर मुख्य सचिव श्री आर 0 के 0 तिवारी , कृषि उत्पादन आयुक्त श्री आलोक सिन्हा , अपर मुख्य सचिव सूचना एवं गृह श्री अवनीश कुमार अवस्थी , अपर मुख्य सचिव वित्त श्री संजीव मित्तल , प्रमुख सचिव लघु , सूक्ष्म एवं मध्यम उद्यम श्री नवनीत सहगल , प्रमुख सचिव मुख्यमंत्री श्री एस०पी०गोयल , सूचना निदेशक श्री शिशिर सहित विभिन्न बैंकों के पदाधिकारी उपस्थित थे । 


Uttar Pradesh Chief Minister inaugurated online Swarojgar Sangam program, disbursed a loan of Rs. 2, 2 crore 49 lakh to 56 thousand 754 entrepreneurs online, this will provide employment to two to two and a half lakh people. For the convenience of beneficiaries of lockdown, departmental schemes like ' Chief Minister Yuva Swarozgar Yojana, one district, one product 'scheme, and Vishwakarma Shram Samman Yojana made online by MSME partner The MSME sector will be strengthened in the country and state through the package given by the Central Government for the MSME sector inaugurated by the Central and Mobile App: Chief Minister Chief Minister interacted with the beneficiaries of Gautam Budh Nagar and Jhansi in the district through making local Only India can be made self-sufficient in the state only with the inspiration of the Prime Minister 'One district, one product' scheme has been implemented. There is a need to develop employment prospects in Uttar Pradesh. A large number of migrant workers/workers can be given employment through the MSME sector. Terracotta of Gorakhpur in GI product Incorporated, after it acquires the right to intellectual property, every product of Uttar Pradesh will get global recognition. The state government will encourage it by bringing it under the purview of wealth, medical devices like PPE kits, N-95 masks and ventilators are also being made in the state. Lucknow: May 14, 2020, Uttar Pradesh Chief Minister Yogi Adityanath Ji today Inaugurated the online Swarojgar Sangam program at his government residence here. On this occasion, the Chief Minister distributed a loan of Rs. 2, 2 crores 49 lakh to 56 thousand 754 entrepreneurs online. To facilitate the beneficiaries in view of the lockdown, the Chief Minister also made online departmental schemes like Mukhyamantri Yuva Swarozgar Yojana, 'Ek Janapada, Ek Utpad' Yojana and Vishwakarma Shram Samman Yojana. He also launched the MSME companion portal and mobile app. In his address, the Chief Minister said that with a view to successfully face the situation arising out of Covid-19, a special economic package of Rs 20 lakh crore has been announced by the Honorable Prime Minister under the 'Self-Reliant India Campaign. For this, he has thanked the Prime Minister and the Union Finance Minister. He said that the Central Government has announced a package of Rs 03 lakh crore for the MSME sector. Through this, the MSME sector in the country and the state will be strengthened. The country will not only succeed in recovering from the Covid-19 global epidemic but will emerge as a big economic power in the world as a self-reliant, self-reliant, and empowered India. He said that two to two and a half lakh people will get employment through loans disbursed to entrepreneurs today. The Chief Minister handed over checks to Mrs. Shweta Sinha, Mrs. Shobha Devi, Mrs. Dimple Trivedi, Mr. Arun Pratap Singh, Mrs. Rabjit Kaur, Ms. Meenu Verma, Ms. Pooja Verma, Ms. Swati Jain, and Ms. Anjana Shukla with her own hands. On this occasion, the Chief Minister established a dialogue through video conferencing to the beneficiary Mr. Manish Kumar of Gautam Budh Nagar and Ms. Udita Gupta of Jhansi. The Chief Minister said that Prime Minister has always encouraged Make in India. India can be made self-sufficient only by making local global. He said that due to the inspiration of the Prime Minister, one in the state District, one product 'scheme implemented. Uttar Pradesh has many such things, which have the potential to become not only local but global. We have to make efforts to push our things forward with new technology and new design in time. He said that in the Union Budget of 2020 also the Government of India arranged funds for one district, one product, and asked the states to promote their local product on the lines of Uttar Pradesh. The Chief Minister said that there is a need to develop employment opportunities in Uttar Pradesh because due to the global epidemic Covid-19, 20 to 25 lakh migrant labor/workers are coming back to the state. They can be given employment through a large number of MSME sector. The Chief Minister congratulated the officials of SLBC, the Bankers Committee, and all the officials associated with the MSME Department. He said that Terracotta of Gorakhpur has been included in the GI product. After it acquires the right to intellectual property, it will gain global recognition. Similarly, the state government will encourage every product of Uttar Pradesh by bringing it under the purview of intellectual property. The Chief Minister said that the State Government has constituted the Mati Kala Board. Through this, the soil is being provided free of cost to the potters. On one hand, pottery art is being encouraged, on the other hand, ponds are becoming a medium for water conservation. The Chief Minister said that today 55,000 beds of L-1, L-2, and L-3 have been made available for Covid-19 in the entire state. Ventilators are available in all 75 districts of the state. The State Excise and Sugarcane Department have played an important role in removing the scarcity of sanitizers. As a result, Uttar Pradesh is playing an important role in supplying sanitizers. He said that medical devices like PPE kits, N-95 masks and ventilators are also being made in the state. It is known that any entrepreneur can register his problem on MSME Partner Portal. Their problems related to departments like - Labor, Power, GST. Departments of banks, pollution control, local bodies, etc. will be forwarded for disposal through the portal. This entire disposal process will be coordinated by the MSME department. Applicant entrepreneurs will be able to get real-time progress on their phones regarding resolving their problems/status of applications etc. The Minister of Micro, Small and Medium Enterprises Shri Siddharth Nath Singh said that under the leadership of the Chief Minister, the state government is also exploring the possibilities in the worldwide epidemic Covid-19. In view of this, loans are being disbursed to the entrepreneurs of the MSME sector. On this occasion, Chief Secretary Mr. RK Tiwari, Agriculture Production Commissioner Mr. Alok Sinha, Additional Chief Secretary Information and Home Mr. Avnish Kumar Awasthi, Additional Chief Secretary Finance Mr. Sanjeev Mittal, Principal Secretary Small, Micro, and Medium Enterprises Mr. Navneet Sehgal, Principal Secretary Chief Minister Shri SP Goel, Director of Information Shri Shishir and officials of various banks were present.







कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

Post Top Ad

Pages