Breaking News

शनिवार, 2 मई 2020

मुख्यमंत्री योगी ने भारत सरकार की एडवायजरी के अनुरूप समस्त आर्थिक गतिविधियां संचालित कराने के निर्देश दिये Chief Minister Yogi directed to conduct all economic activities in accordance with the advisory of the Government of India.

मुख्यमंत्री योगी ने भारत सरकार की एडवायजरी के अनुरूप समस्त आर्थिक गतिविधियां संचालित कराने के निर्देश दिये  Chief Minister Yogi directed to conduct all economic activities in accordance with the advisory of the Government of India.        संवाददाता, Journalist Anil Prabhakar.                 www.upviral24.in

उ0प्र0 मुख्यमंत्री ने भारत सरकार की एडवायजरी के अनुरूप समस्त आर्थिक गतिविधियां संचालित कराने के निर्देश दिये संक्रमण से सुरक्षा के सभी उपाय अपनाते हुए औद्योगिक गतिविधियां संचालित करायी जाएं : मुख्यमंत्री लॉकडाउन में भी सम्भावनाओं को तलाशना आवश्यक लॉकडाउन के बाद प्रदेश में निवेश को एक नया आयाम देने के लिए कार्य योजना तैयार की जाए 16 - 20 लाख लोगों को रोजगार देने के लिए वृहद कार्य योजना तैयार करने के निर्देश वैश्विक महामारी कोविड - 19 के आपदा काल में भी प्रदेश सरकार ने समय से 18 लाख राज्य कर्मचारियों को वेतन तथा 12 लाख रिटायर्ड कर्मियों को पेंशन दी कोरोना के खिलाफ जंग में निर्णायक विजय प्राप्त करने के लिए संक्रमण की प्रत्येक चेन को तोडना आवश्यक प्रभावी पुलिसिंग करते हुए सुनिश्चित किया जाए कि अवैध अन्तर्राज्यीय एवं अन्तर्जनपदीय आवागमन न हो प्रवासी कामगारों एवं श्रमिकों के क्यारंटीन प्रोटोकॉल को सुनिश्चित कराने के लिए प्रत्येक जनपद में एक प्रभारी अधिकारी नामित किया जाए एल - 1 , एल - 2 तथा एल - 3 कोविड चिकित्सालयों में बेड की संख्या में वृद्धि के लिए तेजी से कार्य किया जाए सभी जनपदों में टेलीफोन पर मरीज को परामर्श देने वाले विशेषज्ञ डॉक्टरों की सूची समाचार पत्रों में प्रकाशित करायी जाए मण्डियों में व्यवस्था बनाये रखने के लिए पी0आर0डी0 के जवानों की सेवाएं ली जाएं प्रधानमंत्री आवास योजना तथा मुख्यमंत्री आवास योजना के निर्माण कार्य संचालित किये जाए इनसे मनरेगा श्रमिकों को रोजगार मिलेगा लखनऊ : 2 मई , 2020 मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी ने लॉकडाउन के सम्बन्ध में भारत सरकार द्वारा जारी एडवायजरी का अध्ययन करके उसके अनुरूप समस्त आर्थिक गतिविधियां संचालित कराये जाने के निर्देश दिये हैं । उन्होंने कहा कि लॉकडाउन अवधि में भी सम्भावनाओं को तलाशना आवश्यक है । उन्होंने कहा है । कि संक्रमण से सुरक्षा के सभी उपाय अपनाते हुए औद्योगिक गतिविधियों को संचालित कराया जाए । मुख्यमंत्री जी आज यहां अपने सरकारी आवास पर आहूत एक उच्चस्तरीय बैठक में लॉकडाउन व्यवस्था की समीक्षा कर रहे थे । उन्होंने कहा कि चीनी मिलों के संचालन में संक्रमण का एक भी प्रकरण सामने नहीं आया । इसी प्रकार ईंट - भट्ठा उद्योग भी अच्छी प्रकार चला है । इसी तर्ज पर सभी उद्योगों को चलाया जाए । उन्होंने कहा कि लॉकडाउन के बाद प्रदेश में निवेश को एक नया आयाम देने के लिए एक वृहद कार्य योजना तैयार की जाए । मुख्यमंत्री जी ने कहा कि सम्बन्धित राज्य सरकारों को यह अवगत करा दिया जाए कि वे प्रवासी कामगारों / श्रमिकों की सूची लेकर तथा उनका स्वास्थ्य परीक्षण कराते हुए उनकी सकुशल वापसी की प्रक्रिया प्रारम्भ करें । उन्होंने निर्देश दिये कि वापस आये सभी श्रमिकों का अनिवार्य रूप से स्वास्थ्य परीक्षण किया जाए । सभी जनपदों में इन्फ्रा - रेड थर्मामीटर उपलब्ध कराए जाएं , ताकि प्रवासी श्रमिकों की सुगमता से जांच की जा सके । प्रवासी श्रमिकों व कामगारों की स्क्रीनिंग करते हुए स्वस्थ लोगों को 14 दिन के होम क्वारंटीन के लिए घर भेजा जाए तथा जो स्वस्थ न मिले , ऐसे श्रमिकों के उपचार की व्यवस्था की जाए । उन्होंने प्रवासी कामगारों एवं श्रमिकों के क्वारंटीन प्रोटोकॉल को सुनिश्चित कराने के लिए प्रत्येक जनपद में एक प्रभारी अधिकारी नामित किये जाने के निर्देश दिये । उन्होंने कहा कि प्रभावी पुलिसिंग करते हुए यह सुनिश्चित किया जाए कि किसी भी दशा में अवैध अन्तर्राज्यीय एवं अन्तर्जनपदीय आवागमन न होने पाये । मुख्यमंत्री जी ने कहा कि प्रदेश वापस आने वाले समस्त प्रवासी श्रमिकों एवं कामगारों के नाम , पते , मोबाइल नम्बर एवं कार्य दक्षता युक्त विवरण अवश्य संकलित किया जाए । इससे ऐसे श्रमिकों व कामगारों को रोजगार के अवसर सुलभ कराने में सुविधा होगी । उन्होंने 15 - 20 लाख लोगों को रोजगार के अवसर देने के लिए एक कार्य योजना तत्काल तैयार करने के निर्देश दिये । उन्होंने कहा कि वैश्विक महामारी कोविङ - 19 के आपदा काल में भी प्रदेश सरकार ने समय से 16 लाख राज्य कर्मचारियों को वेतन तथा 12 लाख रिटायर्ड कर्मियों को पेंशन दे दी है ।
मुख्यमंत्री जी ने कहा कि कोरोना के खिलाफ जंग में निर्णायक विजय प्राप्त करने के लिए संक्रमण की प्रत्येक चेन को तोड़ना आवश्यक है । प्रत्येक जनपद में कोविड तथा नॉन - कोविड अस्पताल चिन्हित किये जाएं । यह सुनिश्चित किया जाए कि कोरोना के मरीज का उपचार केवल कोविड अस्पताल में ही किया जाए । अन्य रोगों के उपचार की व्यवस्था नॉन - कोविड अस्पताल में की जाए । उन्होंने कहा कि अस्पतालों की इमरजेन्सी में मरीज की स्क्रीनिंग की जाए । कोरोना के लक्षण वाले रोगियों को कोविड अस्पताल में उपचारित किया जाए । मुख्यमंत्री जी ने कहा कि 60 वर्ष से अधिक आयु के लोगों अथवा छोटे बच्चों के कोरोना संक्रमित होने पर उनका उपचार एल - 2 या एल - 3 कोविड अस्पताल में किया जाए । एल - 1 . एल - 2 तथा एल - 3 कोविड चिकित्सालयों में बेड की संख्या में वृद्धि के लिए तेजी से कार्य किया जाए । सभी मण्डलों में एल - 3 अस्पताल स्थापित किये जाएं । डॉक्टरों व पैरामैडिक्स की प्रशिक्षण व्यवस्था को जारी रखा जाए । निजी चिकित्सकों तथा आयुष के चिकित्सकों को प्रशिक्षित किया जाए , ताकि कोविड अस्पतालों में इनकी सेवाएं आवश्यकतानुसार प्राप्त की जा सकें । मुख्यमंत्री जी कहा कि सावधानी एवं सतर्कता से ही कोरोना संक्रमण से । बचा जा सकता है । मेडिकल संक्रमण को रोकने के लिए अस्पतालों में पी0पी0ई0 किट , एन - 95 मास्क , ग्लव्स तथा सेनेटाइजर सहित सुरक्षा के सभी आवश्यक मानक अपनाये जाए । उन्होंने कहा कि अस्पतालों में जनरल ओ0पी0डी0 अभी संचालित न की जाए । इससे मेडिकल इन्फेक्शन को रोकने में मदद मिलेगी । सभी जनपदों में टेलीफोन पर मरीज को परामर्श प्रदान करने वाले विशेषज्ञ डॉक्टरों की सूची समाचार पत्रों में प्रकाशित करायी जाए । मुख्यमंत्री जी ने क्वारंटीन सेन्टर , आश्रय स्थल , कम्युनिटी किचन तथा डोर स्टेप डिलीवरी व्यवस्था की नवीनतम स्थिति की जानकारी प्राप्त की । उन्होंने निर्देश दिये कि डोर स्टेप डिलीवरी को और बेहतर बनाया जाए । क्वारंटीन सेन्टर की संख्या में वृद्धि की जाए । इनमें सोशल डिस्टेंसिंग का कड़ाई से पालन कराया जाए । यह भी सुनिश्चित किया जाए कि क्वारंटीन सेन्टर तथा आश्रय स्थल में साफ - सफाई तथा सुरक्षा व्यवस्था चुस्त - दुरुस्त रहे । उन्होंने कम्युनिटी किचन में भी साफ - सफाई के सभी मानकों का पालन करते हुए भोजन तैयार कराने के निर्देश दिये । ऐसी व्यवस्था बनायी जाए कि प्रत्येक क्वारंटीन सेन्टर में राजस्व विभाग का एक कर्मी सदैव उपलब्ध रहे । मुख्यमंत्री जी ने कहा कि मण्डियों में सोशल डिस्टेंसिंग का पालन कराने के लिए भीड़ एकत्र न होने दी जाए । इनमें व्यवस्था बनाये रखने के लिए पी0आर0डी0 के जवानों की सेवाएं ली जाएं । मण्डियों में नियमित तौर पर सेनेटाइजेशन कराया जाए । प्रधानमंत्री आवास योजना तथा मुख्यमंत्री आवास योजना के अन्तर्गत निर्माण कार्य संचालित किये जाए । इसके माध्यम से मनरेगा श्रमिकों को रोजगार मिलेगा । उन्होंने महिला स्वयं सहायता समूहों की सदस्यों को मास्क बनाने तथा आचार , मुरब्बा , पापड़ आदि तैयार करने के कार्य से जोड़ने के निर्देश दिये । उन्होंने कहा कि निराश्रित व्यक्ति की मृत्यु होने पर शासन द्वारा अनुमन्य राशि से दिवंगत का अन्तिम संस्कार कराया जाए । इस अवसर पर चिकित्सा शिक्षा मंत्री श्री सुरेश खन्ना , स्वास्थ्य मंत्री श्री जय प्रताप सिंह , स्वास्थ्य राज्यमंत्री श्री अतुल गर्ग , मुख्य सचिव श्री आर0के0 तिवारी , कृषि उत्पादन आयुक्त श्री आलोक सिन्हा , अवस्थापना एवं औद्योगिक विकास आयुक्त श्री आलोक टण्डन , अपर मुख्य सचिव सूचना एवं गृह श्री अवनीश कुमार अवस्थी , अपर मुख्य सचिव राजस्व श्रीमती रेणुका कुमार , अपर मुख्य सचिव वित्त श्री संजीव मित्तल , पुलिस महानिदेशक श्री हितेश सी0 अवस्थी , प्रमुख सचिव चिकित्सा शिक्षा डॉ० रजनीश दुबे , प्रमुख सचिव स्वास्थ्य श्री अमित मोहन प्रसाद , प्रमुख सचिव मुख्यमंत्री श्री एस0पी0 गोयल एवं श्री संजय प्रसाद , प्रमुख सचिव एम०एस०एम0ई0 श्री नवनीत सहगल , प्रमुख सचिव ग्राम्य विकास एवं पंचायतीराज श्री मनोज कुमार सिंह , प्रमुख सचिव खाद एवं रसद श्रीमती निवेदिता शुक्ला वर्मा , प्रमुख सचिव कृषि डॉ0 देवेश चतुर्वेदी , प्रमुख सचिव पशुपालन श्री भुवनेश कुमार , सचिव मुख्यमंत्री श्री आलोक कुमार , सूचना निदेशक श्री शिशिर सहित अन्य वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे ।



Uttar Pradesh Chief Minister instructed to conduct all economic activities in accordance with the advisory of the Government of India and adopt all measures to protect against infection. Industrial activities should be conducted: Chief Minister should explore possibilities in lockdown. After lockdown, it is necessary to give a new dimension to investment in the state. The action plan should be prepared for 16 major projects to give employment to 20 - 20 lakh people Instructions to prepare the global epidemic Covid - Even in the disaster period of 19, the state government on time paid 18 lakh state employees and pension to 12 lakh retired personnel, each chain of transition to achieve a decisive victory in the war against Corona. Breaking must be done by making effective policing necessary to ensure that there is no illegal inter-state and inter-state traffic. In order to ensure the Marant's Quarantine Protocol, one in-charge officer should be nominated in each district. L-1, L-2, and L-3 Covid Hospitals should be worked on rapidly to increase the number of beds in all districts. The list of specialist doctors to be consulted should be published in newspapers and to maintain order in the mandis, Services to be taken up, construction work of Pradhan Mantri Awas Yojana and Mukhyamantri Awas Yojana should be conducted. This will provide employment to MNREGA workers. Instructions have been given to conduct it. He said that it is necessary to explore the possibilities even in the lockdown period. They have said That industrial activities should be conducted by adopting all measures to protect against infection. The Chief Minister was reviewing the lockdown system at a high-level meeting convened at his government residence here today. He said that not a single case of infection in the operation of sugar mills was revealed. Similarly, the brick-kiln industry has also done well. All industries should be run on the same lines. He said that after the lockdown, a comprehensive action plan should be prepared to give a new dimension to investment in the state. The Chief Minister said that the concerned State Governments should be made aware that by taking the list of migrant workers/workers and conducting their health tests, they should start their process of safe return. He instructed that all the workers returned should be compulsorily tested. Infra-red thermometers should be made available in all districts, so that migrant worker can be easily checked. During the screening of migrant workers and workers, healthy people should be sent home for 14 days home quarantine, and arrangements should be made for the treatment of workers who are not healthy. He instructed to nominate one officer in charge in each district to ensure the quarantine protocol for migrant workers and workers. He said that by effective policing, it should be ensured that in any case, illegal inter-state and inter-state traffic does not occur. The Chief Minister said that details of names, addresses, mobile numbers, and work efficiency of all migrant workers and workers coming back to the state must be compiled. This will facilitate employment opportunities for such workers and workers. He directed to immediately prepare an action plan to give employment opportunities to 15 - 20 lakh people. He said that the state government has given a salary to 16 lakh state employees and pension to 12 lakh retired personnel on time, even in the disaster period of global epidemic Covid-19.
The Chief Minister said that to win a decisive victory in the war against Corona, it is necessary to break every chain of transition. Covid and non-Covid hospitals should be identified in every district. It should be ensured that the corona patient is treated only at Covid Hospital. Treatment of other diseases should be arranged in non-Covid Hospital. He said that patients should be screened in the emergency of hospitals. Patients with corona symptoms should be treated at Covid Hospital. The Chief Minister said that if people above 60 years of age or young children get corona infected, they should be treated at L-2 or L-3 Covid Hospital. L - 1. Work should be done to increase the number of beds in L-2 and L-3 Covid hospitals. L-3 hospitals should be established in all the boards. Training of doctors and paramedics should be continued. Private physicians and doctors of AYUSH should be trained so that their services can be availed as per the requirement in Covid hospitals. Chief Minister said that due to caution and vigilance due to corona infection. can be avoided. All the necessary safety standards including PPE kits, N-95 masks, gloves, and sanitizers should be adopted in hospitals to prevent medical infection. He said that General OPD should not be operated in hospitals right now. This will help prevent medical infection. In all the districts, the list of specialist doctors who provide counseling to patients on a telephone should be published in newspapers. The Chief Minister received information about the latest status of the Quarantine Center, shelter site, community kitchen, and doorstep delivery system. He instructed that doorstep delivery should be further improved. The number of quarantine centers should be increased. Social distancing should be strictly followed. It should also be ensured that the cleanliness and security in the Quarantine Center and the shelter site is well maintained. He also instructed to prepare food in the community kitchen following all cleanliness standards. Such an arrangement should be made that one personnel of the revenue department is always available in every quarantine center. The Chief Minister said that crowds should not be allowed to gather in the mandis to ensure social distancing. To maintain order in them, the services of PRD personnel should be taken. Sanitation should be done regularly in the mandis. Construction work should be conducted under Pradhan Mantri Awas Yojana and Mukhyamantri Awas Yojana. Through this, MNREGA workers will get employment. He instructed the members of women self-help groups to make masks and connect them to the task of preparing pickles, jams, papad, etc. He said that on the death of a destitute person, the last rites of the deceased should be performed by the government with a permissible amount. On this occasion, Medical Education Minister Mr. Suresh Khanna, Health Minister Mr. Jai Pratap Singh, Minister of State for Health Mr. Atul Garg, Chief Secretary Mr. RK Tiwari, Agriculture Production Commissioner Mr. Alok Sinha, Infrastructure and Industrial Development Commissioner Mr. Alok Tandon, Additional Chief Secretary Information and Home Shri Avnish Kumar Awasthi, Additional Chief Secretary Revenue Mrs. Renuka Kumar, Additional Chief Secretary Finance Mr. Sanji And Mittal, Director General of Police Mr. Hitesh C. Awasthi, Principal Secretary Medical Education Dr. Rajneesh Dubey, Principal Secretary Health Mr. Amit Mohan Prasad, Principal Secretaries Chief Minister Mr. SP Goel and Mr. Sanjay Prasad, Principal Secretary MSME Mr. Navneet Sehgal, Principal Secretary Rural Development and Panchayati Raj. Mr. Manoj Kumar Singh, Principal Secretary of Fertilizer and Logistics Smt. Nivedita Shukla Verma, Principal Secretary Agriculture Dr. Devesh Chaturvedi, Principal Secretary Animal Husbandry Mr. Bhuvanesh Kumar, Secretary Chief Minister Mr. Alok Kumar, Information Director Mr. Shishir and other senior officials were present.






कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

Post Top Ad

Pages