Breaking News

सोमवार, 27 अप्रैल 2020

उत्तर प्रदेश: मुख्यमंत्री योगी ने लॉकडाउन व्यवस्था की समीक्षा बैठक कर विभागों को दिशा निर्देश दिए Uttar Pradesh: Chief Minister Yogi held a review meeting of lockdown system and gave directions to departments

उत्तर प्रदेश: मुख्यमंत्री योगी ने लॉकडाउन व्यवस्था की समीक्षा बैठक कर समस्त विभागों को दिशा निर्देश दिए    Uttar Pradesh: Chief Minister Yogi held a review meeting of lockdown system and gave directions to all departments   उत्तर प्रदेश: मुख्यमंत्री योगी ने लॉकडाउन व्यवस्था की समीक्षा बैठक कर विभागों को दिशा निर्देश दिए    Uttar Pradesh: Chief Minister Yogi held a review meeting of lockdown system and gave directions to departments    संवाददाता, Journalist Anil Prabhakar.                 www.upviral24.in
उ0प्र0 मुख्यमंत्री ने लॉकडाउन व्यवस्था की समीक्षा की 
01 मई , 2020 से जरूरतमन्दों के लिए खाद्यान्न वितरण की कार्यवाही पुनः प्रारम्भ की जाए : मुख्यमंत्री 
एल - 1 , एल - 2 व एल - 3 डेडिकेटेड कोविड अस्पतालों का क्षमता विस्तार किया जाए 
प्रत्येक जनपद में 15 , 000 से 25 , 000 क्षमता के क्वारंटीन सेण्टर तथा आश्रय स्थल की व्यवस्था सुनिश्चित की जाए 
सभी प्रकार के सुरक्षात्मक उपाय अपनाकर राज्य में आपातकालीन चिकित्सा सेवाएं तत्काल बहाल की जाएं 
राज्य के अधिकतर निजी चिकित्सालय भी आयुष्मान योजना से आच्छादित , इनमें भी सुरक्षात्मक उपाय अपनाकर आपातकालीन चिकित्सा सेवाएं प्रारम्भ की जा सकती हैं 
लॉकडाउन व्यवस्था का प्रभावी पालन सुनिश्चित कराया जाए 
हॉटस्पॉट क्षेत्रों में रहने वाले कर्मी कार्यस्थल पर न जाएं 
कोविड - 19 से बचाव व प्रभावी उपचार के लिए टेस्टिंग बढ़ाने के निर्देश 
कोविड और नॉन कोविड अस्पतालों के लिए प्रोटोकॉल तय किया जाए 
सभी जनपदों में अपर मुख्य चिकित्सा अधिकारी के स्तर के अधिकारी को चिकित्सकों व पैरामेडिकल स्टाफ के प्रशिक्षण की जिम्मेदारी दी जाए 
बड़ी संख्या में लोगों के प्रभावी प्रशिक्षण के लिए कार्यक्रम तैयार किया जाए , इसके लिए आवश्यकतानुसार मोबाइल एप विकसित कराया जाए 
3 मई , 2020 के उपरान्त औद्योगिक गतिविधियों के संचालन के सम्बन्ध में कार्ययोजना बनाने के निर्देश 
शेल्टर होम्स और क्वारंटीन होम्स को जियो टैग किया जाए 
क्वारंटीन स्थलों पर अच्छे व पर्याप्त भोजन एवं पेयजल की व्यवस्था सुनिश्चित की जाए 

लखनऊ : 7 अप्रैल , 2020 उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी ने कहा कि प्रदेशवासियों को आपातकालीन चिकित्सा सुविधाएं सुलभ होना आवश्यक है । इसके दृष्टिगत ,  सभी प्रकार के सुरक्षात्मक उपाय अपना कर राज्य में आपातकालीन चिकित्सा सेवाएं तत्काल बहाल की जाएं । मेडिकल इंफेक्शन को रोकना हमारी प्राथमिकता होनी चाहिए । इसके लिए आवश्यक है कि बचाव के सभी उपाय अपनाये जाएं । उन्होंने कहा कि आपातकालीन चिकित्सा के दौरान मेडिकल इंफेक्शन रोकने के लिए स्वास्थ्य और चिकित्सा शिक्षा विभागों द्वारा हर सम्भव कदम उठाये जाएं । मुख्यमंत्री जी आज यहां अपने सरकारी आवास पर आहूत एक उच्चस्तरीय बैठक में लॉकडाउन व्यवस्था की समीक्षा कर रहे थे । उन्होंने कहा कि राज्य के अधिकतर निजी चिकित्सालय भी आयुष्मान योजना से आच्छादित हैं । इनमें भी सुरक्षात्मक उपाय अपनाकर आपातकालीन चिकित्सा सेवाएं प्रारम्भ की जा सकती हैं । उन्होंने कहा कि कोविड - 19 पर नियंत्रण के लिए अस्पताल आने वाले प्रत्येक मरीज की स्क्रीनिंग अत्यन्त आवश्यक है । इसके दृष्टिगत , आपातकालीन चिकित्सा सेवाएं सुलभ कराने वाले सभी अस्पताल यह भी सुनिश्चित करें कि उनके यहां कोविड - 19 के टेस्ट की भी सुविधा हो । मुख्यमंत्री जी ने कहा कि हॉटस्पॉट क्षेत्रों में रहने वाले कर्मी कार्यस्थल पर न जाएं । हॉटस्पॉट इलाकों में केवल होम डिलीवरी , स्वास्थ्य व सेनिटाइजेशन से सम्बन्धित कर्मियों के आने - जाने की अनुमति दी जाए । अन्य व्यक्तियों की आवाजाही पर पूर्ण पाबन्दी लगायी जाए । हॉटस्पॉट क्षेत्रों में प्रत्येक घर को सेनिटाइज कराया जाए । कोविड - 19 से बचाव व इससे संक्रमित व्यक्तियों के प्रभावी उपचार के लिए टेस्टिंग की संख्या बढ़ाने के निर्देश देते हुए मुख्यमंत्री जी ने कहा कि टेस्टिंग बढ़ाने के लिए पूल टेस्ट को बढ़ावा दिया जाए । मुख्यमंत्री जी ने कहा कि प्रदेश में अन्य राज्यों से आने वाले प्रवासी मजदूरों को अवश्य क्वारंटीन कराया जाए । क्वारंटीन में भेजने से पूर्व सभी श्रमिकों की मेडिकल जाँच भी सुनिश्चित करायी जाए । उन्होंने कहा कि क्यारंटीन सेण्टर्स में एन0सी0सी0 के प्रशिक्षित स्वयंसेवक तैनात किए जाएं । डेडिकेटेड कोविड अस्पताल बनाये जाने पर बल देते हुए उन्होंने कोविड अस्पतालों और नॉन कोविड अस्पतालों को अलग - अलग परिसरों में बनाये जाने के निर्देश दिये । उन्होंने कहा कि प्रदेश के सभी 52 मेडिकल कॉलेजों में कोविड अस्पताल बनाया जाए । जिन जनपदों में मेडिकल कॉलेज नहीं हैं , वहां जिला चिकित्सालय को  कोविड अस्पताल बनाया जाए । कोविड और नॉन कोविड अस्पतालों के लिए प्रोटोकॉल भी तय किया जाए । कोविड - 19 से बचाव व उपचार के सम्बन्ध में चिकित्सकों व पैरामेडिकल स्टाफ के समुचित प्रशिक्षण पर बल देते हुए मुख्यमंत्री जी ने कहा कि सभी जनपदों में अपर मुख्य चिकित्सा अधिकारी के स्तर के अधिकारी को चिकित्सकों व पैरामेडिकल स्टाफ के प्रशिक्षण की जिम्मेदारी दी जाए । उन्होंने कहा कि डिग्री व इण्टर कॉलेजों के प्रधानाचार्यों व शिक्षकों को भी प्रशिक्षित किया जाए । इससे ये लोग आमजन को जागरूक कर सकेंगे । उन्होंने प्रधानाचार्यों सहित बेसिक , माध्यमिक , उच्च व तकनीकी शिक्षा से जुड़े लोगों को भी प्रशिक्षित किये जाने पर बल दिया । उन्होंने कहा कि बड़ी संख्या में लोगों के प्रभावी प्रशिक्षण के लिए एक कार्यक्रम तैयार किया जाए । इसके लिए आवश्यकतानुसार मोबाइल एप विकसित कराया जाए । उन्होंने कहा कि प्रत्येक जनपद में मास्टर ट्रेनर्स लगाये जाएं । मुख्यमंत्री जी ने नोवल कोरोना वायरस के उपचार हेतु जिला अस्पताल को कोविड अस्पताल बनाने , कोविड अस्पतालों में बेड की संख्या बढ़ाये जाने की तैयारी करने एवं एल - 1 व एल - 2 अस्पतालों में भी ऑक्सीजन की व्यवस्था सुनिश्चित के निर्देश भी दिये । उन्होंने कहा कि एल - 1 . एल - 2 व एल - 3 डेडिकेटेड कोविड अस्पतालों का क्षमता विस्तार किया जाए । उन्होंने पी0पी0ई0 किट , एन - 95 मास्क की नियमित आपूर्ति सुनिश्चित करने के निर्देश भी दिये । उन्होंने कहा कि यह सामग्री भारत सरकार के मानकों के अनुरूप होनी चाहिए । मुख्यमंत्री जी ने कहा कि प्रदेशवासियों को चिकित्सा सेवाएं उपलब्ध कराने के लिए टेलीमेडिसिन व्यवस्था को बढ़ावा दिया जाए । इससे जनसामान्य को ओ0पी0डी0 की भांति चिकित्सा सुविधाएं प्राप्त होने लगेंगी । इसके लिए ऐसे चिकित्सकों की सूची बनाकर जारी की जाए . जो आमजन को दूरभाष पर चिकित्सीय परामर्श उपलब्ध करा सकें । मुख्यमंत्री जी ने बताया कि प्रधानमंत्री जी ने कहा है कि बड़ी संख्या में खोले गये जनधन खातों में जारी रुपे कार्ड का प्रयोग कोविङ - 19 को रोकने में उपयोगी हो सकता है । इसलिए इसे बढ़ावा दिया जाना चाहिए । इस जानकारी का बड़े पैमाने पर विशेषतः ग्रामीण इलाकों में प्रचार - प्रसार भी कराया जाए । इससे बैंकों में भीड़ कम होगी तथा सोशल डिस्टेंसिंग को बनाये रखने में मदद मिलेगी । उन्होंने 3 मई , 2020 के उपरान्त औद्योगिक गतिविधियों के संचालन के सम्बन्ध में कार्ययोजना बनाये जाने के निर्देश दिये । मुख्यमंत्री जी ने कहा कि लॉकडाउन व्यवस्था का प्रभावी पालन सुनिश्चित कराया जाए । उन्होंने निर्देश दिये कि 01 मई , 2020 से जरूरतमन्दों के लिए खाद्यान्न वितरण की कार्यवाही पुनः प्रारम्भ की जाए । मण्डी खुले स्थानों में लगवायी जाए तथा इनमें सोशल डिस्टेंसिंग का विशेष ध्यान रखा जाए । होम डिलीवरी में लगे लोगों का मेडिकल टेस्ट भी कराया जाए । प्रत्येक जनपद में 15 , 000 से 25 , 000 क्षमता के क्वारंटीन सेण्टर तथा आश्रय स्थल की व्यवस्था सुनिश्चित की जाए । उन्होंने शेल्टर होम्स और क्वारंटीन होम्स को जियो टैग कराने के निर्देश भी दिये । उन्होंने कहा कि क्वारंटीन में रखे गये लोगों की नाम , पता , मोबाइल नम्बर युक्त सूची तैयार की जाए । इन लोगों से नियमित संवाद भी किया जाए । क्वारंटीन स्थलों पर अच्छे व पर्याप्त भोजन एवं पेयजल की व्यवस्था सुनिश्चित की जाए । इस अवसर पर चिकित्सा शिक्षा मंत्री श्री सुरेश खन्ना , स्वास्थ्य मंत्री श्री जय प्रताप सिंह , मुख्य सचिव श्री आर0के0 तिवारी , कृषि उत्पादन आयुक्त श्री आलोक सिन्हा , अवस्थापना एवं औद्योगिक विकास आयुक्त श्री आलोक टण्डन , अपर मुख्य सचिव सूचना एवं गृह श्री अवनीश कुमार अवस्थी , अपर मुख्य सचिव राजस्व श्रीमती रेणुका कुमार , पुलिस महानिदेशक श्री हितेश सी0 अवस्थी , प्रमुख सचिव चिकित्सा शिक्षा डॉ0 रजनीश दुबे , प्रमुख सचिव स्वास्थ्य श्री अमित मोहन प्रसाद , प्रमुख सचिव मुख्यमंत्री श्री एस०पी० गोयल एवं श्री संजय प्रसाद , प्रमुख सचिव एम०एस०एम०ई० श्री नवनीत सहगल , प्रमुख सचिव ग्राम्य विकास एवं पंचायतीराज श्री मनोज कुमार सिंह , प्रमुख सचिव खाद एवं रसद श्रीमती निवेदिता शुक्ला वर्मा , प्रमुख सचिव कृषि डॉ0 देवेश चतुर्वेदी , प्रमुख सचिव पशुपालन श्री भुवनेश कुमार , सचिव मुख्यमंत्री श्री आलोक कुमार , सूचना निदेशक श्री शिशिर सहित अन्य वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे ।       

UP Chief Minister reviewed the lockdown system
From May 01, 2020, the process of distribution of food grains to the needy should be resumed: Chief Minister
Capacity expansion of L-1, L-2 and L-3 dedicated Covid hospitals
Ensure arrangement of 15, 000 to 25, 000 capacity quarantine centers and shelter in each district.
Emergency medical services should be immediately restored in the state by adopting all types of protective measures.
Most private hospitals in the state are also covered by Ayushman Yojana, emergency medical services can be started by adopting protective measures.
Ensure effective adherence to the lockdown system
Workers in hotspot areas do not go to work
Instructions to increase testing for prevention and effective treatment with Covid - 19
The protocol should be set for Covid and in-Covid hospitals
In all the districts, the officer of the level of Additional Chief Medical Officer should be given the responsibility of training of physicians and paramedical staff.
A program should be prepared for effective training of a large number of people, for this, a mobile app should be developed as per requirement
Instructions for preparing an action plan in relation to the conduct of industrial activities after 3 May 2020
Live tagged Shelter Homes and Quarantine Homes
Ensure good and adequate food and drinking water arrangements at quarantine sites

Lucknow: April 7, 2020, Uttar Pradesh Chief Minister Yogi Adityanath ji said that it is necessary for the people of the state to have emergency medical facilities. In view of this, emergency medical services should be immediately restored in the state by adopting all types of protective measures. Preventing medical infections should be our priority. For this, it is necessary that all rescue measures are adopted. He said that all possible steps should be taken by the Health and Medical Education Departments to prevent medical infections during emergency treatment. The Chief Minister was reviewing the lockdown system at a high-level meeting convened at his government residence here today. He said that most of the private hospitals in the state are also covered by Ayushman Yojana. In these too, emergency medical services can be started by adopting protective measures. He said that screening of every patient coming to the hospital is very important to control Covid-19. In view of this, all hospitals providing emergency medical services should also ensure that they have the facility of the test of Covid-19. The Chief Minister said that workers living in hotspot areas should not go to the workplace. Only home delivery, health, and sanitization related personnel should be allowed to go to the hotspot areas. The full ban should be imposed on the movement of other persons. Each house should be sanitized in hotspot areas. Instructing to increase the number of tests for the prevention and effective treatment of infected persons from Covid-19, the Chief Minister said that pool tests should be encouraged to increase testing. The Chief Minister said that the migrant laborers coming from other states in the state must be quarantined. Medical examination of all workers should also be ensured before sending them to the quarantine. He said that trained NCC volunteers should be deployed in the Quarantine centers. Emphasizing the creation of dedicated Covid Hospital, he instructed Covid Hospitals and Non-Covid Hospitals to be set up on separate campuses. He said that Covid Hospital should be made in all 52 medical colleges in the state. District hospitals which do not have medical colleges, the district hospital Covid Hospital should be built. Protocol for Covid and non Covid hospitals should also be fixed. Emphasizing the proper training of doctors and paramedical staff in relation to prevention and treatment from Covid-19, the Chief Minister said that the responsibility of training of paramedical staff and physicians should be given to the officer of the level of Additional Chief Medical Officer in all districts. He said that principals and teachers of degree and inter colleges should also be trained. This will make these people aware. He also emphasized training people associated with basic, secondary, higher, and technical education including principals. He said that a program should be prepared for the effective training of a large number of people. For this, a mobile app should be developed as per requirement. He said that master trainers should be installed in every district. The Chief Minister also instructed to make the district hospital a Covid Hospital for the treatment of Novel Corona Virus, preparing to increase the number of beds in Covid Hospitals and to ensure the provision of oxygen in L-1 and L-2 hospitals as well. He said that L - 1. Capacity expansion of L-2 and L-3 dedicated Covid hospitals. He also instructed to ensure regular supply of PPE kits, N-95 masks. He said that this material should conform to the standards of the Government of India. The Chief Minister said that the telemedicine system should be promoted to provide medical services to the people of the state. With this, the public will start getting medical facilities like OPD. For this, a list of such doctors should be made and released. Who can provide medical consultation over the telephone to the general public? The Chief Minister said that the Prime Minister has said that the use of RuPay cards issued in a large number of Jan Dhan accounts can be useful in stopping Kovin-19. Therefore it should be promoted. This information should be widely disseminated, especially in rural areas. This will reduce congestion in banks and will help in maintaining social distancing. After 3 May 2020, he directed to prepare an action plan in relation to the conduct of industrial activities. The Chief Minister said that effective compliance of the lockdown system should be ensured. He directed that the process of distribution of food grains to the needy should be resumed from May 1, 2020. Mandi should be installed in open places and special attention should be given to social distancing in them. The medical tests should also be done for those engaged in-home delivery. Arrangements for quarantine centers and shelter sites of 15, 000 to 25, 000 capacity should be ensured in each district. He also instructed Shelter Homes and Quarantine Homes to get a geotag. He said that a list containing the names, addresses, mobile numbers of people kept in the quarantine should be prepared. Regular interaction with these people should also be done. Ensure good and adequate food and drinking water arrangements at the quarantine sites. On this occasion, Medical Education Minister Mr. Suresh Khanna, Health Minister Mr. Jai Pratap Singh, Chief Secretary Mr. RK Tiwari, Agriculture Production Commissioner Mr. Alok Sinha, Infrastructure and Industrial Development Commissioner Mr. Alok Tandon, Additional Chief Secretary Information and Home Mr. Avnish Kumar Awasthi, Additional Chief Secretary Revenue Mrs. Renuka Kumar, Director General of Police Mr. Hitesh C. Awasthi, Principal Secretary Medical Education 0 Rajneesh Dubey, Principal Secretary Health Shri Amit Mohan Prasad, Principal Secretary Chief Minister Mr. SP Goel and Mr. Sanjay Prasad, Principal Secretary MSME Mr. Navneet Sehgal, Principal Secretary Rural Development and Panchayati Raj Mr. Manoj Kumar Singh, Principal Secretary Manure and Logistics Mrs. Nivedita Shukla Verma. , Principal Secretary Agriculture Dr. Devesh Chaturvedi, Principal Secretary Animal Husbandry Mr. Bhuvanesh Kumar, Secretary Chief Minister Sh. Ri Alok Kumar, Director Information other senior officials, including Mr. Shishir. 





कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

Post Top Ad

Pages