Breaking News

गुरुवार, 16 अप्रैल 2020

पुलिस, स्वास्थ्य तथा स्वच्छता कर्मियों पर यदि कोई हमला करे , तो दोषी के विरुद्ध कठोर कार्यवाही की जाए -मुख्यमंत्री योगी If anyone attacks police, health and sanitation workers, stern action should be taken against the guilty - CM Yogi

पुलिस, स्वास्थ्य तथा स्वच्छता कर्मियों पर यदि कोई हमला करे , तो दोषी के विरुद्ध कठोर कार्यवाही की जाए -मुख्यमंत्री योगी  If anyone attacks police, health and sanitation workers, stern action should be taken against the guilty - CM Yogi               संवाददाता, Journalist Anil Prabhakar.                 www.upviral24.in

मुख्यमंत्री ने लॉकडासन व्यवस्था की समीक्षा की पुलिस , स्वास्थ्य तथा स्वच्छता कर्मियों पर यदि कोई हमला करे , तो दोषी के विरुद्ध आपदा प्रबन्धन अधिनियम , राष्ट्रीय सुरक्षा अधिनियम तथा आई०पी०सी० के तहत कठोर कार्यवाही की जाए : मुख्यमंत्री हॉट स्पॉट क्षेत्रों में केवल मेडिकल , सेनिटाइजेशन एवं डोर स्टेप डिलीवरी टीमों को ही आवागमन की अनुमति कोरोना वायरस के संक्रमण को छुपाने एवं जानबूझकर न बताने वाले लोगों को चिन्हित कर सख्त से सख्त कार्यवाही की जाए लॉकडाउन के दौरान 20 अप्रैल , 2020 से भारत सरकार द्वारा विभिन्न गतिवधियों का संचालन अनुमन्य , इस सम्बन्ध में शासनादेश तत्काल जारी किया जाए सभी अस्पतालों में एन - 25 मास्क , पी0पी0ई0 सहित संक्रमण से सुरक्षा के सभी उपकरण पर्याप्त मात्रा में अनिवार्य रूप से उपलब्ध रहें होम क्वारेन्टाइन हेतु घर भेजे जा रहे सभी लोगों की " मुख्यमंत्री हेल्पलाइन 1076 ' के माध्यम से नियमित मॉनीटरिंग की जाए मण्डी तथा बाजारों आदि में सोशल डिस्टैन्सिंग का पालन कराया जाए गेहूं क्रय केन्द्रों पर सभी व्यवस्थाएं उपलब्ध करायी जाएं किसी भी खाधान्न योजना से आच्छादित न होने वाले जरूरतमन्दों को खाद्यान्न के साथ ही 1000 रु० का भरण - पोषण मत्ता उपलब्ध कराया जाए लखनऊ : 16 अप्रैल , 2020 उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी ने कहा है कि पुलिस , स्वास्थ्य कर्मी तथा स्वच्छता कर्मियों पर यदि कोई हमला करे , तो दोषी के विरुद्ध आपदा प्रबन्धन अधिनियम , राष्ट्रीय सुरक्षा अधिनियम ( एन०एस०ए० ) तथा आई०पी०सी० की सुसंगत धाराओं के तहत कठोर कार्यवाही की जाए । उन्होंने निर्देश दिए हैं कि उपद्रवी तत्वों द्वारा तोड़ - फोड़ किए जाने पर नुकसान की भरपाई के लिए उपद्रवी तत्वों से वसूली की जाए । ऐसा न करने पर उनकी सम्पत्ति जब्त कर ली जाए । उन्होंने कहा कि हेल्थ टीम के साथ पुलिस भी जाए ।
मुख्यमंत्री जी आज यहां लोकभवन में आहूत एक बैठक में लॉकडाउन व्यवस्था की समीक्षा कर रहे थे । उन्होंने कहा कि लॉकडाउन का सख्ती से अनुपालन कराया जाए । यह भी सुनिश्चित कराया जाए कि जनता को आवश्यक सामग्री आसानी से उपलब्ध हो । इसके दृष्टिगत होम डिलीवरी की व्यवस्था को तेज किया जाए । यह भी सुनिश्चित किया जाए कि सप्लाई चेन बनी रहे । मुख्यमंत्री जी ने कहा कि हॉट स्पॉट क्षेत्रों को पूरी तरह से सील कर , आवागमन को पूरी सख्ती से प्रतिबंधित किया जाये । नियमों का उल्लंघन करने वालों पर कड़ी कार्यवाही की जाये । हॉट स्पॉट क्षेत्रों में केवल मेडिकल , सेनिटाइजेशन एवं डोर स्टेप डिलीवरी टीमों को ही आवागमन की अनुमति दी जाये । हॉट स्पॉट क्षेत्रों में घर - घर सेनिटाइजेशन कराया जाए । उन्होंने कहा कि कोरोना वायरस के संक्रमण को छुपाने एवं जानबूझकर न बताने वाले लोगों को चिन्हित कर सख्त से सख्त कार्यवाही की जाए । ऐसे लोगों की Corona Carrier होने की सम्भावना रहती है । ऐसे लोगों को प्रश्रय देने वालों और उनकी तलाशी न करने वाले थानेदारों के विरुद्ध भी कार्यवाही की जाए । मुख्यमंत्री जी ने कहा कि लॉकडाउन के दौरान आगामी 20 अप्रैल , 2020 से भारत सरकार के आदेशानुसार विभिन्न गतिवधियों का संचालन अनुमन्य किया जा रहा है । भारत सरकार की व्यवस्था के क्रम में प्रदेश में प्रारम्भ किए जाने वाले कार्यों तथा गतिविधियों के सम्बन्ध में सभी आवश्यक सावधानियां बरती जाएं । प्रत्येक यूनिट की सावधानियां तय की जाएं । यह भी सुनिश्चित किया जाए कि ऐसी प्रत्येक यूनिट में थर्मल स्कैनर तथा सेनिटाइजर आदि की पर्याप्त उपलब्धता रहे । हर हाल में सोशल डिस्टैसिंग का पालन सुनिश्चित किया जाए । मुख्यमंत्री जी ने कहा कि केन्द्र सरकार द्वारा जारी किए गए नियमों को अधिकारीगण पढ़ें तथा कार्ययोजना तैयार करें । अनुमन्य की जाने वाली विभिन्न गतिविधियों के सम्बन्ध में शासनादेश तत्काल जारी किया जाए । शासनादेश में सभी सावधानियों का स्पष्ट तौर पर उल्लेख अवश्य किया जाए । 
 मुख्यमंत्री जी ने कहा कि प्रत्येक जनपद के चिन्हित अस्पतालों में इमरजेन्सी सेवाएं सक्षम स्तर से अनुमति के पश्चात ही संचालित की जाए । इमरजेंसी सेवाओं के संचालन के लिए स्वास्थ्य एवं चिकित्सा शिक्षा विभागों के प्रमुख सचिव प्राथमिकता पर व्यवस्थाएं सुनिश्चित करें । सभी अस्पतालों में एन - 95 मास्क , पी०पी०ई० सहित संक्रमण से सुरक्षा के सभी उपकरण पर्याप्त मात्रा में अनिवार्य रूप से उपलब्ध रहें । बिना कोविड नियंत्रण प्रशिक्षण एवं सुरक्षा उपाय के इमरजेन्सी सेवाओं का संचालन न किया जाए । जिन चिकित्सा संस्थानों में स्टाफ की संक्रमण से सुरक्षा के सभी प्रबन्ध उपलब्ध होंगे और डॉक्टरों सहित सभी चिकित्साकर्मी प्रशिक्षित होंगे , वहीं इमरजेन्सी सेवाओं का संचालन अनुमन्य किया जाए । यह सुनिश्चित करना सम्बन्धित जिला प्रशासन का दायित्व होगा । उन्होंने कहा कि टेलीमेडिसिन के माध्यम से लोगों को टेली कन्सलटेन्सी अर्थात चिकित्सीय परामर्श सुविधा उपलब्ध कराई जाए । मुख्यमंत्री जी ने कहा कि अस्पताल अथवा संस्थागत क्वारेन्टाइन की अवधि पूरी करने के पश्चात होम क्वारेन्टाइन हेतु घर भेजे जा रहे सभी लोगों की , अपर मुख्य सचिव राजस्व से सूची प्राप्त कर , ' मुख्यमंत्री हेल्पलाइन 1076 के माध्यम से नियमित मॉनीटरिंग की जाए । उन्होंने अधिकारियों को निर्देशित किया कि सम्पूर्ण प्रदेश में मण्डी तथा बाजारों आदि में सोशल डिस्टैन्सिंग का पालन कराया जाए । प्रदेश की सभी मण्डियों के खुलने के समय सेनिटाइजेशन का कार्य नियमित तौर पर कराया जाए । मुख्यमंत्री जी ने कहा कि विभिन्न प्रदेशों में रह रहे उत्तर प्रदेश वासियों की समस्याओं के समाधान के लिए प्रदेश सरकार द्वारा नामित नोडल अधिकारी प्रत्येक फोन कॉल को अटेण्ड करें । लोगों की समस्याओं के समाधान के लिए सचेत एवं संवेदनशील रहें । सम्बन्धित राज्य सरकार के नियमित सम्पर्क में रहते हुए विभिन्न राज्यों में उत्तर प्रदेश वासियों की दिक्कतों को दूर कराएं । मुख्यमंत्री जी ने कहा कि गेहूं क्रय केन्द्रों पर सभी व्यवस्थाएं उपलब्ध करायी जाएं । यह सुनिश्चित किया जाए कि किसी भी दशा में न्यूनतम समर्थन मूल्य से कम पर खरीद न हो । लॉकडाउन अवधि में जनता की सुविधा के लिए प्रदेश सरकार के विभिन्न विभागों एवं संस्थाओं द्वारा कॉल सेण्टर , हेल्पलाइन एवं नियंत्रण कक्ष संचालित किए जा रहे हैं । उन्होंने कहा कि यह सुनिश्चित किया जाए कि यह सभी सुचारू रूप से कार्यशील रह कर लोगों को पूरी सहायता प्रदान करें । मुख्यमंत्री जी ने कहा कि कम्युनिटी किचन व्यवस्था को सुदृढ़ करते हुए अधिक से अधिक जरूरतमंदों को लाभान्वित किया जाए । वितरण कार्य में प्रमाणित लोग ही रखे जाएं । कोई भी संदिग्ध व्यक्ति इस कार्य में न लगाया जाए । इसलिए सभी जिलाधिकारियों को इस सम्बन्ध में विशेष सतर्कता बरतनी होगी । मुख्यमंत्री जी ने कहा कि इस आपदा के समय में सभी जरूरतमन्दों को तत्काल खाद्यान्न उपलब्ध कराया जाए । जो जरूरतमन्द किसी भी खाद्यान्न योजना से आच्छादित नहीं हैं , ऐसे लोगों को भी खाद्यान्न के साथ ही 1000 रुपये का भरण - पोषण भत्ता उपलब्ध कराया जाए । निराश्रित गोवंश एवं अन्य पशुओं के भोजन आदि का समुचित प्रबन्ध सुनिश्चित किया जाए । पशु चिकित्सा अधिकारियों के द्वारा आवश्यकतानुसार इनका उपचार कराया जाए । इस अवसर पर मुख्य सचिव श्री आर0के0 तिवारी , कृषि उत्पादन आयुक्त श्री आलोक सिन्हा , अवस्थापना एवं औद्योगिक विकास आयुक्त श्री आलोक टण्डन , अपर मुख्य सचिव सूचना एवं गृह श्री अवनीश कुमार अवस्थी , अपर मुख्य सचिव वित्त श्री संजीव कुमार मित्तल , अपर मुख्य सचिव राजस्व श्रीमती रेणुका कुमार , पुलिस महानिदेशक श्री हितेश सी० अवस्थी , प्रमुख सचिव चिकित्सा शिक्षा डॉ रजनीश दुबे , प्रमुख सचिव स्वास्थ्य श्री अमित मोहन प्रसाद , प्रमुख सचिव मुख्यमंत्री श्री एस०पी0 गोयल एवं श्री संजय प्रसाद , सूचना निदेशक श्री शिशिर सहित अन्य वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे । 

The Chief Minister reviewed the lock as a system, if anyone attacks police, health and sanitation workers, stern action should be taken against the culprit under the Disaster Management Act, National Security Act, and IPC: only medical, sanitization and doorways in Chief Minister hot spot areas Step delivery teams are allowed to travel only to conceal coronavirus infection and deliberate The strictest action should be taken by identifying people who do not tell you, during the lockdown, the government of India will be allowed to conduct various activities from April 20, 2020, a government order in this regard should be issued immediately. In all hospitals, infection including N-25 mask, PPE All the safety equipment should be available in sufficient quantity from all the people who are being sent home for home quarantine "Chief Minister Regular monitoring should be done through helpline 1076 'Social distancing should be followed in the mandis and markets, etc. All arrangements should be made available at the wheat purchasing centers, food grains along with food grains to the needy not covered by any food scheme; Nutrition allowance should be made Lucknow: April 16, 2020, Uttar Pradesh Chief Minister Yogi Adityanath ji has said that the police, self She to personnel and no attack if the sanitation workers, then drastic action under the guilty against the Disaster Management Act, the relevant sections of the National Security Act (N 0 S 0 A 0) and I 0 p 0 C 0. He has directed that recovery should be made from the nuisance elements to compensate for the damage caused by disturbing elements. Failure to do so should confiscate their property. He said that the police should also accompany the health team. The Chief Minister was reviewing the lockdown system at a meeting convened at Lok Bhavan here today. He said that the lockdown should be strictly complied with. It should also be ensured that the necessary material is easily available to the public. In view of this, the system of home delivery should be speeded up. It should also be ensured that the supply chain remains. The Chief Minister said that the traffic should be strictly banned, by sealing the hot spot areas completely. Strict action should be taken against those who violate the rules. Only medical, sanitization and doorstep delivery teams should be allowed to visit the hot spot areas. House to house sanitization should be done in hot spot areas. He said that strict action should be taken by identifying people who do not hide and deliberately tell about the infection of coronavirus. Such people are likely to be Corona Carrier. Action should also be taken against those who encourage such people and the policemen who do not search them. The Chief Minister said that during the lockdown, various activities are being permitted as per the orders of the Government of India from April 20, 2020. In order of the Government of India, all necessary precautions should be taken in relation to the works and activities to be started in the state. Precautions for each unit should be fixed. It should also be ensured that there is sufficient availability of thermal scanners and sanitizers etc. in each such unit. In any case, social distancing should be ensured. The Chief Minister said that the officials should read the rules issued by the Central Government and prepare an action plan. Government orders should be issued immediately regarding various activities to be permitted. All precautions must be clearly mentioned in the mandate.  The Chief Minister said that emergency services in identified hospitals of each district should be operated only after permission from a competent level. Principal Secretaries of Health and Medical Education Departments should make arrangements on priority for conducting emergency services. In all hospitals, all equipment for infection protection including N-95 mask, PPE should be available in sufficient quantity. Emergency services should not be conducted without covid control training and security measures. In medical institutions where all the management of staff infection protection will be available and all medical personnel including doctors will be trained, the operation of emergency services should be allowed. It will be the responsibility of the district administration concerned to ensure this. He said that tele-consultancy should be made available to people through telemedicine. The Chief Minister said that after completing the period of the hospital or institutional quarantine, regular monitoring should be done through the Chief Minister Helpline 1076, after receiving the list from the Additional Chief Secretary Revenue, of all the people being sent home for home quarantine. He directed the officers that social distancing should be carried out in Mandi and Markets etc. throughout the state. Sanitation work should be done regularly at the time of opening of all the mandis of the state. The Chief Minister said that to resolve the problems of the people of Uttar Pradesh living in different states, the Nodal Officers nominated by the State Government should call each phone call. Be alert and sensitive to solve people's problems. Remain the problems of the people of Uttar Pradesh in different states by keeping in regular contact with the concerned state government. The Chief Minister said that all arrangements should be made available at the wheat purchasing centers. It should be ensured that in no case, purchases are made below the MSP. For the convenience of the public during the lockdown period, call centers, helpline, and control rooms are being operated by various departments and institutions of the state government. He said that it should be ensured that all of them provide full assistance to the people by being functioning smoothly. The Chief Minister said that by strengthening the community kitchen system, more and more needy people should be benefited. Only certified people should be employed in distribution work. No suspicious person should be employed in this work. Therefore, all the District Magistrates will have to take special care in this regard. The Chief Minister said that at the time of this disaster, food grains should be made available immediately to all the needy. Those who are not covered by any food scheme in need should also be provided with food grains as well as a maintenance allowance of 1000 rupees. Proper management of destitute cows and other animal feeds should be ensured. They should be treated by the veterinary authorities as needed. On this occasion, Chief Secretary Mr. RK Tiwari, Agriculture Production Commissioner Mr. Alok Sinha, Infrastructure and Industrial Development Commissioner Mr. Alok Tandon, Additional Chief Secretary Information and Home Mr. Avnish Kumar Awasthi, Additional Chief Secretary Finance Mr. Sanjeev Kumar Mittal, Additional Chief Secretary Revenue Smt. Renuka Kumar, Director General of Police Mr. Hitesh C. Awasthi, Principal Secretary Medical Education Dr. Rajneesh Dubey, Principal Secretary Health If Mr. Amit Mohan Prasad, Principal Secretary to Chief Minister S 0 p 0 Goyal and Mr. Sanjay Prasad, Information Director, other senior officials, including Mr. Shishir.  


कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

Post Top Ad

Pages