Breaking News

शनिवार, 25 अप्रैल 2020

मुख्यमंत्री योगी ने कोविड - 19 रिस्पॉन्स - एन इण्डस्ट्रियल रिवाइवल स्ट्रैटजी पर केन्द्रित प्रस्तुतीकरण का अवलोकन किया Chief Minister Yogi observed the presentation centered on Covid - 19 Response - An Industrial Revival Strategy.

मुख्यमंत्री योगी ने कोविड - 19 रिस्पॉन्स - एन इण्डस्ट्रियल रिवाइवल स्ट्रैटजी पर केन्द्रित प्रस्तुतीकरण का अवलोकन किया   Chief Minister Yogi observed the presentation centered on Covid - 19 Response - An Industrial Revival Strategy.     संवाददाता, Journalist Anil Prabhakar.                 www.upviral24.in

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री ने कोविड - 19 रिस्पॉन्स - एन इण्डस्ट्रियल रिवाइवल स्ट्रैटजी पर केन्द्रित प्रस्तुतीकरण का अवलोकन किया लॉक डाउन की समाप्ति के उपरान्त उद्योगों को पुनः चालू करने के लिए ठोस प्रस्ताव तैयार किया जाए बदली हुई वैश्विक परिस्थितियों में भारत अब निवेश का एक अच्छा गंतव्य हो सकता है . इसमें उ0प्र0 बहुत महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकता है : मुख्यमंत्री सभी निवेशकों की समस्याओं का त्वरित निदान सुनिश्चित किया जाए मौजूदा औद्योगिक इकाइयों को सक्रिय करने के लिए . प्रस्तावित इकाइयों को धरातल पर उतारने के लिए और नये निवेश को आकर्षित करने के लिए रणनीति बनायी जाए उद्योगों को बढ़ावा देने के लिए प्रदेश में मौजूद विभिन्न नीतियों की समीक्षा करने के निर्देश श्रम कानूनों की समीक्षा और उनमें सुधार करने के निर्देश मुख्यमंत्री ने सम्भावित निवेशकों की आवश्यकताओं के मद्देनजर लैण्ड बैंक बनाने पर बल दिया प्रदेश में फार्मा सेक्टर में अपार सम्भावनाएं मौजूद : मुख्यमंत्री लखनऊ : 25 अप्रैल , 2020 उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी ने आज यहां अपने सरकारी आवास पर कोविड - 19 रिस्पॉन्स - एन इण्डस्ट्रियल रिवाइवल स्ट्रैटजी पर केन्द्रित प्रस्तुतीकरण का अवलोकन किया । इस अवसर पर उन्होंने कहा कि लॉक डाउन के चलते वर्तमान में प्रदेश की अधिकांश औद्योगिक गतिविधियां रुकी हुई है । उन्होंने कहा कि लॉक डाउन की समाप्ति के उपरान्त इन्हें पुनः चालू करने के लिए एक ठोस प्रस्ताव तैयार किया जाए । उन्होंने कहा कि यह प्रस्ताव पूरी सकारात्मकता के साथ बनाया जाए । मुख्यमंत्री जी ने कहा कि बदली हुई वैश्विक परिस्थितियों में भारत अब निवेश का एक अच्छा गंतव्य हो सकता है । इसमें उत्तर प्रदेश बहुत महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकता है । इसलिए निवेशकों को यह संदेश मिलना चाहिए कि उत्तर प्रदेश में निवेश बहुत लाभकारी साबित हो सकता है । सभी निवेशकों की समस्याओं का त्वरित निदान सुनिश्चित किया जाए । मौजूदा औद्योगिक इकाइयों को सक्रिय करने , प्रस्तावित इकाइयों को धरातल पर उतारने और नये निवेश को आकर्षित करने के लिए रणनीति बनायी जाए । निवेशकों की समस्याओं को तत्काल शासन के संज्ञान में लाया जाए । मुख्यमंत्री जी ने कहा कि मौजूदा औद्योगिक इकाइयों को फिर से चालू करने के । लिए एक प्रभावी योजना बनायी जाए । उन्होंने उद्योगों को बढ़ावा देने के लिए प्रदेश में मौजूद विभिन्न नीतियों की समीक्षा करने के निर्देश दिए । उन्होंने श्रम कानूनों की समीक्षा करने और उनमें सुधार करने के भी निर्देश दिए । उन्होंने सम्भावित निवेशकों की आवश्यकताओं के मद्देनजर लैण्ड बैंक बनाने पर बल देते हुए कहा कि भूमि अधिग्रहण की नई नीति पर भी विचार हो । प्रदेश में मौजूद सिक यूनिट्स की समीक्षा करते हुए उनकी ग्राह्यता पर विचार किया जाए । इनकी भूमि का बेहतर इस्तेमाल कैसे किया जा सकता है , इस पर भी फोकस किया जाए । उन्होंने बीमार इकाइयों पर निर्णय लेने के भी निर्देश दिए । मुख्यमंत्री जी ने कहा कि उद्योगों को पुनः चालू करने के लिए वित्तीय व्यवस्थाओं पर भी फोकस करना होगा । उन्होंने कहा कि प्रदेश में फार्मा सेक्टर में अपार सम्भावनाएं मौजूद है । अतः इस पर पूरा ध्यान दिया जाए । उन्होंने लखनऊ में फार्मा पार्क स्थापित करने की सम्भावनाएं तलाशने के लिए भी कहा है । मुख्यमंत्री जी के समक्ष अवस्थापना एवं औद्योगिक विकास आयुक्त श्री आलोक टण्डन ने प्रस्तुतीकरण देते हुए उन्हें इण्डस्ट्रियल रिवाइवल स्ट्रैटजी के विषय में अवगत कराया । इसके तहत मौजूदा उद्योगों , एग्जिस्टिंग इन्वेस्टमेंट पाइपलाइन तथा नये निवेशों के विषय में जानकारी दी । उन्होंने मौजूदा उद्योगों के लिए भारत सरकार की योजनाओं के तहत उन्हें अधिक से अधिक लाभान्वित करने की योजना पर प्रकाश डाला । उन्होंने विभिन्न राज्यों से उत्तर प्रदेश लौटे श्रमिकों के सेवायोजन के सम्बन्ध में भी विस्तार से बताया । उन्होंने कहा कि उद्योगों को चालू करने के लिए नियमों में छुट देने पर भी विचार किया जा सकता है । प्रस्तुतीकरण के दौरान मुख्यमंत्री जी को अवगत कराया गया कि उद्योगों के लिए ऋण की उपलब्धता भी सुनिश्चित करनी होगी । इसके लिए भारत सरकार और बैंकों से उद्योगों को ऋण की उपलब्धता सुनिश्चित करने के लिए समन्वय स्थापित करना आवश्यक होगा । उद्योगों के पुनसंचालन के लिए एम०एस०एमआई0 सेक्टर पर विशेष ध्यान देना होगा । इसके लिए उनसे सम्बन्धित टैक्स एण्ड कॉम्लायेन्सेज / एपूवल्स के इश्यूज का प्रभावी समाधान करना होगा । उनके फाइनेंशियल और लिक्विडिटी से सम्बन्धित इश्यूज का भी समाधान करना होगा । इसके अलावा , ऑपरेशनल एण्ड पॉलिसी रिलेटेड इश्यूज का भी समाधान सुनिश्चित करना होगा । उनके निर्यात सम्बन्धी मुद्दों को भी हल करना होगा । एग्जिस्टिंग इन्वेस्टमेंट पाइपलाइन के सम्बन्ध में मुख्यमंत्री जी को अवगत कराते हुए अवस्थापना एवं औद्योगिक विकास आयुक्त ने बताया कि इसके लिए फास्टर इश्यू रिजोल्यूशन एण्ड होल्डिंग पर फोकस करना आवश्यक होगा । नये निवेश को आकर्षित करने के लिए मुख्यमंत्री जी को अवगत कराया गया कि वर्तमान परिस्थितियों में प्रदेश में नया निवेश आने की प्रबल सम्भावनाएं मौजूद हैं । राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर इन्हें आकर्षित करने के लिए रणनीति बनायी जानी आवश्यक है । उन्होंने कहा कि ऐसी इकाइयों को आकर्षित करने के लिए जो नीति बनायी जाए , उसमें इनके लिए प्रोत्साहन पर विशेष बल दिया जाए । प्रस्तुतीकरण के दौरान औद्योगिक विकास मंत्री श्री सतीश महाना . एमएस०एम०ई० मंत्री श्री सिद्धार्थनाथ सिंह , प्रमुख सचिव एम०एस०एम०ई० श्री नवनीत सहगल , प्रमुख सचिव मुख्यमंत्री श्री एस०पी० गोयल , सचिव अवस्थापना एवं औद्योगिक विकास श्रीमती नीना शर्मा सहित अन्य वरिष्ठ अधिकारी मौजूद थे ।

Uttar Pradesh Chief Minister Observes Presentation Focused on Covid-19 Response - N Industrial Revival Strategy After concluding lock-down, concrete proposal to be made to restart industries. India is now a good investment destination in changed global conditions It is possible. UP can play a very important role in this: Chief Minister should ensure a quick diagnosis of the problems of all investors to activate the existing industrial units. A strategy should be chalked out to bring the proposed units on the ground and to attract new investment, to promote the industries, to review the various policies in the state, to review the labor laws, and to improve them. In view of the requirements, the emphasis was laid on the creation of a land bank in the pharma sector. Jud: CM Lucknow April 25, 2020, Chief Adityanath Uttar Pradesh Minister today reviewed the presentations centered on his official residence Covid-19 Response - An industrial revival strategy. On this occasion, he said that due to the lockdown, most of the industrial activity of the state has been stopped. He said that a concrete proposal should be prepared to revive them after the end of the lockdown. He said that this proposal should be made with full positivity. The Chief Minister said that India can now be a good investment destination in the changed global conditions. Uttar Pradesh can play a very important role in this. Therefore, investors should get the message that investment in Uttar Pradesh can prove to be very beneficial. Ensure prompt diagnosis of all investors' problems. Strategies should be chalked out to activate the existing industrial units, take the proposed units on the ground, and attract new investment. The problems of investors should be brought to the notice of immediate governance. The Chief Minister said that the revival of the existing industrial units. An effective plan should be made for this. He directed to review various policies present in the state to promote industries. He also directed to review and reform labor laws. Stressing the need for a land bank in view of the needs of potential investors, he said that a new policy for land acquisition should also be considered. Reviewing the sick units present in the state, their eligibility should be considered. The focus should also be on how their land can be put to better use. He also gave instructions to decide on sick units. The Chief Minister said that financial systems will also have to be focused to revive industries. He said that there is immense potential in the pharma sector in the state. Therefore, full attention should be paid to this. He has also asked to explore possibilities of setting up a Pharma Park in Lucknow. In the presentation to the Chief Minister, the Commissioner of Infrastructure and Industrial Development, Shri Alok Tandon, made them aware of the Industrial Revival Strategy. Under this, information was given about existing industries, exit investment pipeline, and new investments. He highlighted plans for existing industries to benefit them more and more under the schemes of the Government of India. He also explained in detail the employment of workers returned from various states in Uttar Pradesh. He said that the relaxation of rules can also be considered for starting industries. During the presentation, the Chief Minister was apprised that the availability of credit for industries would also have to be ensured. For this, the Government of India and banks will establish coordination to ensure the availability of credit to industries It will be necessary. Special attention will be paid to the MSI sector for the revival of industries. For this, the issues related to tax and compliance/provisions related to them will have to be resolved effectively. Issues related to their financial and liquidity will also have to be resolved. Apart from this, the resolution of operational and policy-related issues will also have to be ensured. Their export-related issues also have to be resolved. The Commissioner of Infrastructure and Industrial Development while informing the Chief Minister regarding the Existing Investment Pipeline, said that for this it would be necessary to focus on the Faster Issue Resolution and Holding. In order to attract new investment, the Chief Minister was informed that in the present circumstances there are strong possibilities of new investment in the state. A strategy needs to be chalked out to attract them at national and international levels. He said that in the policy that should be made to attract such units, special emphasis should be given on incentives for them. During the presentation, Mr. Satish Mahana, Minister of Industrial Development. MSME Minister Shri Siddharth Nath Singh, Principal Secretary MSME Shri Navneet Sehgal, Principal Secretary Chief Minister Shri SP Goel, Secretary Infrastructure and Industrial Development Smt. Neena Sharma and other senior officers were present.





कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

Post Top Ad

Pages