Breaking News

रविवार, 26 अप्रैल 2020

मुख्यमंत्री योगी ने कोविड-19 से निपटने के लिए गठित टीम - 11 के साथ की समीक्षा बैठक Chief Minister Yogi reviews meeting with team - 11 set up to deal with Covid-19

मुख्यमंत्री योगी ने कोविड-19 से निपटने के लिए गठित टीम - 11 के साथ की समीक्षा बैठक   Chief Minister Yogi reviews meeting with team - 11 set up to deal with Covid-19     संवाददाता, Journalist Anil Prabhakar.                 www.upviral24.in     
उ0प्र0 मुख्यमंत्री ने कोविड - 19 से निपटने के लिए गठित टीम - 11 के साथ समीक्षा बैठक की
कोरोना वायरस की रोकथाम के लिए पूल टेस्टिंग को बढ़ावा दिया जाए . क्योंकि पूल टेस्ट के माध्यम से ही अधिक लोगों की जांच करके कोरोना पर प्रभावी नियंत्रण किया जा सकता है : मुख्यमंत्री कोरोना के उपचार में लगी डॉक्टर , नर्स , पैरामेडिक्स तथा अन्य स्टाफ की टीम को हर हाल में मेडिकल इन्फेक्शन से बचाया जाए , कोरोना से जंग में मेडिकल टीम को सुरक्षित रखना अत्यन्त आवश्यक कोविड अस्पतालों में अनिवार्य रूप से सिर्फ कोविड संक्रमण का ही इलाज हो अन्य चिकित्सा गतिविधियां इन अस्पतालों में न की जाएं अस्पतालों में मौजूद कोरोना से सम्बन्धित तथा अन्य बायोमेडिकल वेस्ट का सुरक्षित डिस्पोजल सुनिश्चित किया जाए कोरोना प्रभावित मरीजों के इलाज के लिए प्लाज्मा थेरेपी पर भी विचार करें मुख्य सचिव , प्रमुख सचिव स्वास्थ्य व पुलिस महानिदेशक को सभी 19 संवेदनशील जनपदों के नोडल अधिकारियों से फीड बैक लेने और कोरोना के बढ़ते मामलों पर प्रभावी नियंत्रण करने के निर्देश लॉकडाउन के दौरान जिन औद्योगिक इकाइयों को चलाने की अनुमति दी गयी है , वहां सोशल डिस्टेंसिंग का सख्ती से पालन सुनिश्चित किया जाए वॉलेन्टियर्स की टीम गठित कर लोगों को कोरोना के विषय में जागरूक किया जाए 30 जून , 2020 तक कोई भी सार्वजनिक कार्यक्रम आयोजित करने की अनुमति न दी जाए अपर मुख्य सचिव राजस्व को कम्युनिटी किचन की तरह शेल्टर होम्स की भी जियो टैगिंग कराने के निर्देश क्वारंटीन में रखे गये लोगों के नाम , पते . मोबाइल नम्बर संकलित करते हुए इन्हें आरोग्य सेतु एप से जोड़ा जाए लेन - देन के लिए रुपे कार्ड आदि माध्यम को बढ़ावा दिया जाए सभी ग्रामीण सेवाओं को मुहैया कराने के लिए सी0एस0सी0 की तर्ज पर व्यवस्था बनायी जाए लोगों को रोजगार मुहैया कराने के लिए बनायी गयी कार्य योजना को शीघ्र लागू करने के निर्देश लखनऊ : 28 अप्रैल , 2020 उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी ने कहा कि कोरोना वायरस की रोकथाम के लिए पूल टेस्टिंग को बढ़ावा दिया जाए , क्योंकि पूल टेस्ट के माध्यम से अधिक से अधिक लोगों की जांच करके कोरोना पर प्रभावी नियंत्रण किया जा सकता है । कोरोना के उपचार में लगी डॉक्टर , नर्स , पैरामेडिक्स तथा अन्य स्टाफ की टीम को हर हाल में मेडिकल इन्फेक्शन से बचाया जाए । कोरोना से जंग में मेडिकल टीम को सुरक्षित रखना अत्यन्त आवश्यक है । इसके लिए कोविड अस्पतालों में पर्याप्त संख्या में पी0पी0ई0 किट्स , एन - 95 मास्क की व्यवस्था सुनिश्चित की जाए । साथ ही अस्पतालों की साफ - सफाई सुनिश्चित करते हुए लगातार सेनेटाइजेशन किया जाए । उन्होंने मेडिकल इन्फेक्शन की रोकथाम के लिए गठित की गयी डेडीकेटेड टीम को कोरोना के इलाज में लगे सभी कर्मियों की लगातार निगरानी के निर्देश दिये । मुख्यमंत्री जी ने यह विचार आज यहां अपने सरकारी आवास पर कोविड - 19 से निपटने के लिए गठित टीम - 11 की समीक्षा बैठक के दौरान व्यक्त किये । उन्होंने कहा कि अस्पतालों में मौजूद कोरोना से सम्बन्धित तथा अन्य बायोमेडिकल वेस्ट का सुरक्षित डिस्पोजल सुनिश्चित किया जाए । सभी अस्पतालों में आवश्यक सुविधाओं की उपलब्धता सुनिश्चित की जाए । उन्होंने कहा कि कोविड अस्पतालों में अनिवार्य रूप से सिर्फ कोविड संक्रमण का ही इलाज हो अन्य चिकित्सा गतिविधियां इन अस्पतालों में न की जाएं । मुख्यमंत्री जी ने कहा कि कोरोना प्रभावित मरीजों के इलाज के लिए प्लाज्मा थेरेपी को बढ़ाने पर विचार करना चाहिए , क्योंकि इसके अच्छे परिणाम मिले हैं । उन्होंने देश के विभिन्न राज्यों में निवासरत उत्तर प्रदेशवासियों को क्वारंटीन अवधि पूरी होने के उपरान्त चरणबद्ध तरीके से प्रदेश वापस लाने के निर्देश दिये । उन्होंने मुख्य सचिव , प्रमुख सचिव स्वास्थ्य व पुलिस महानिदेशक को सभी 19 संवेदनशील जनपदों के नोडल अधिकारियों से फीड बैक लेने और कोरोना के बढ़ते मामलों पर प्रभावी नियंत्रण करने के भी निर्देश दिये । मुख्यमंत्री जी ने कहा कि लॉकडाउन के दौरान जिन औद्योगिक इकाइयों को चलाने की अनुमति दी गयी है , वहां पर सोशल डिस्टेंसिंग का सख्ती से पालन सुनिश्चित किया जाए । यह भी देखा जाए की इन इकाइयों में कोरोना की रोकथाम के सम्बन्ध में स्वास्थ्य विभाग द्वारा जारी दिशा निर्देशों को अनुपालन अवश्य हो । _ _ _ मुख्यमंत्री जी ने कहा कि सप्लाई चेन प्रभावी ढंग से कार्य कर रही है । यह सुनिश्चित किया जाए कि भविष्य में भी यह इसी तरह कार्य करती रहे । उन्होंने होम डिलीवरी में लगे व्यक्तियों की लगातार निगरानी और जांच करने के निर्देश दिये , ताकि इनसे कोरोना संक्रमण फैलने न पाये । उन्होंने वॉलेन्टियर्स की टीम गठित कर लोगों को कोरोना के विषय में जागरूक करने के साथ - साथ शेल्टर होम्स में नियमित साफ - सफाई और सेनेटाइजेशन के भी निर्देश दिये ।  मुख्यमंत्री जी ने कहा कि पूरे प्रदेश में लॉकडाउन को सख्ती से लागू किया जाए . किसी भी हाल में कहीं कोई भीड़ इकट्ठा न हो । पेट्रोलिंग बढ़ायी जाए और सोशल डिस्टेंसिंग को प्रभावी ढंग से लागू किया जाए । उन्होंने कहा कि 30 जून , 2020 तक कोई भी सार्वजनिक कार्यक्रम आयोजित करने की अनुमति न दी जाए । उन्होंने सोशल मीडिया की निरन्तर निगरानी के भी निर्देश दिये । उन्होंने अपर मुख्य सचिव राजस्व को कम्युनिटी किचन की तरह ही शेल्टर होम्स की भी जियो टैगिंग कराने के निर्देश देते हुए कहा कि क्वारंटीन में रखे गये लोगों के नाम , पते , मोबाइल नम्बर संकलित करते हुए इन्हें आरोग्य सेतु एप से जोड़ा जाए । कोरोना मरीजों का इलाज कोविड अस्पतालों में ही किया जाए । मुख्यमंत्री जी ने कहा कि लेन - देन के लिए रुपे कार्ड तथा अन्य माध्यम को बढ़ावा दिया जाए । सभी ग्रामीण सेवाओं को मुहैया कराने के लिए ग्राहक सेवा केन्द्र ( सी०एस०सी० ) की तर्ज पर व्यवस्था बनायी जाए , जिससे बैंकों में होने वाली भीड को कम किया जा सके । बैंकों में सोशल डिस्टेंसिंग हर हाल में सुनिश्चित की जाए । मुख्यमंत्री जी ने कहा कि राज्य सरकार यह सुनिश्चित कर रही है कि लॉकडाउन के कारण श्रमिकों को रोजगार मिलने में कोई असुविधा न हो । प्रदेश सरकार इसके प्रति पूरी तरह से संवेदनशील है और स्थिति पर निगाह बनाये हुए है । मनरेगा के श्रमिकों को रोजगार उपलब्ध कराया जा रहा है । उन्होंने लोगों को रोजगार मुहैया कराने के लिए बनायी गयी कार्य योजना को शीघ्र लागू करने के निर्देश दिये । इस अवसर पर मुख्य सचिव श्री आर0के0 तिवारी , कृषि उत्पादन आयुक्त श्री आलोक सिन्हा , अवस्थापना एवं औद्योगिक विकास आयुक्त श्री आलोक टण्डन , अपर मुख्य सचिव सूचना एवं गृह श्री अवनीश कुमार अवस्थी , अपर मुख्य सचिव राजस्व श्रीमती रेणुका कुमार , पुलिस महानिदेशक श्री हितेश सी0 अवस्थी , प्रमुख सचिव चिकित्सा शिक्षा डॉ० रजनीश दुबे , प्रमुख सचिव स्वास्थ्य श्री अमित मोहन प्रसाद , प्रमुख सचिव मुख्यमंत्री श्री एस०पी० गोयल एवं श्री संजय प्रसाद , प्रमुख सचिव एम०एस०एम०ई० श्री नवनीत सहगल , प्रमुख सचिव ग्राम्य विकास एवं पंचायतीराज श्री मनोज कुमार सिंह , प्रमुख सचिव खाद एवं रसद श्रीमती निवेदिता शुक्ला वर्मा , प्रमुख सचिव कृषि डॉ० देवेश चतुर्वेदी , प्रमुख सचिव पशुपालन श्री भुवनेश कुमार , सूचना निदेशक श्री शिशिर सहित अन्य वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे । 

CM held review meeting with Team 11 Ramp up pool testing for effective control of Covid-19: CM Doctors, nurses and paramedics engaged in corona treatment should be insulated from the medical infection Covid hospitals should not treat patients of diseases other than corona Plasma therapy should be encouraged to treat Corona Chief Secretary, Principal Secretary, Health and the Director General of Police to take feedback from nodal officers of 19 sensitive districts Transactions should be encouraged through Rupay Card and other Apps No public programme should be allowed till June 30, 2020 Team of volunteers should be set up which will spread corona awareness Maintain social distancing in the industrial units which are allowed to resume their operations Lucknow : 26 April, 2020 Uttar Pradesh Chief Minister Yogi Adityanath Ji has directed to ramp up pool testing for effective control of Covid-19. He said that more pool testing would cover big population and help in controlling the menace. He said that doctors, nurses and paramedics engaged in corona treatment should be insulated from the medical infection as they are the ones to be protected in the fight against corona. The adequate number of PPE kits, N-95 masks and other equipment should be ensured in the Covid hospitals, he said while addressing a high-level Team- 11 lockdown review meeting at his official residence. 2 Reiterating that dedicated team set up to prevent medical infection, the CM said that it should ensure proper sanitation of hospitals and cleanliness. The disposal of bio-waste and other corona-related material should be treated with utmost care, he said while adding the Covid hospitals should not treat patients of diseases other than corona. He said the plasma therapy has brought-in good results and it should be further increased. The Chief Minister said that the migrants stuck in other states should be brought back to UP in a phased manner after they have completed 14-day quarantine period. He directed the Chief Secretary, Principal Secretary, Health and the Director General of Police to take feedback from nodal officers of 19 sensitive districts in order to neutralise the corona infection. He directed to maintain social distancing in the industrial units which are allowed to resume their operations. "It is to be ensured that all norms of lockdown are followed in such units," he said. The CM expressed satisfaction over the effective functioning of supply chain and said that the persons involved in home delivery should also be screened from time to time while the shelter homes should be sanitised periodically. He suggested that the team of volunteers should be set up which will spread corona awareness. He said the lockdown has to be maintained strictly in all over the state with avoidance of mass gathering and maintenance of social distancing. He instructed that no public programme should be allowed till June 30,2020 while speed up the patrolling. He directed Additional Chief Secretary, revenue to geo-tag shelter homes like it was done with community kitchens. He also directed to keep 3 all personal details of the persons kept in quarantine and link them with Arogya App. The CM said that the online transactions should be encouraged through Rupay Card and other Apps. A mechanism on the lines of Cutomer Service Centres should be evolved to facilitate rural services so that the crowding in the banks may be avoided. He said that state government was committed to the welfare of labourers during lockdown. "The jobs are created for them under MNREGS and other schemes and an action plan is also in the process of being implemented in this regard," he pointed out. Those present in the meeting included the Chief Secretary Shri R.K. Tiwari, Agriculture Production Commissioner Shri Alok Sinha, Infrastructure and Industrial Development Commissioner Shri Alok Tandon, Additional Chief Secretary Home and Information Shri Awanish Kumar Awasthi, Additional Chief Secretary Finance Shri Sanjiv Mittal, Additional Chief Secretary Revenue Ms. Renuka Kumar, Director General of Police Shri H.C. Awasthi, Principal Secretary Medical Education Dr. Rajneesh Dubey, Principal Secretary Health Shri Amit Mohan Prasad, Principal Secretary Industrial Development Shri Alok Kumar, Principal Secretary MSME Shri Navneet Sehgal, Principal Secretary Rural Development and Panchayati Raj Shri Manoj Kumar Singh, Principal Secretary Food and Civil Supplies Ms. Nivedita Shukla Verma, Principal Secretary Agriculture Shri Devesh Chaturvedi, Principal Secretary Animal Husbandary Shri Bhuvnesh Kumar, Principal Secretary to CM Shri S.P. Goyal and Shri Sanjay Prasad, Director Information Shri Shishir and other senior officers.   




कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

Post Top Ad

Pages