Breaking News

सोमवार, 20 अप्रैल 2020

उ0प्र0: मुख्यमंत्री ने अपने पूज्य पिताजी के कैलाशवासी होने पर भारी दुःख एवं शोक व्यक्त किया Uttar Pradesh: Chief Minister expressed great sorrow and grief over his revered father being a Kailashivasi.

उ0प्र0: मुख्यमंत्री ने अपने पूज्य पिताजी के कैलाशवासी होने पर भारी दुःख एवं शोक व्यक्त किया    Uttar Pradesh: Chief Minister expressed great sorrow and grief over his revered father being a Kailashivasi.      संवाददाता, Journalist Anil Prabhakar.                 www.upviral24.in

उ0प्र0 मुख्यमंत्री ने अपने पूज्य पिताजी के कैलाशवासी होने पर भारी दुःख एवं शोक व्यक्त किया
लखनऊ : 20 अप्रैल , 2020 उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी ने अपने पूज्य पिताजी के कैलाशवासी होने पर भारी दुःख एवं शोक व्यक्त किया है । मुख्यमंत्री जी ने कहा कि वे मेरे पूर्वाश्रम के जन्मदाता हैं । जीवन में ईमानदारी , कठोर परिश्रम एवं निःस्वार्थ भाव से लोक मंगल के लिए समर्पित भाव के साथ कार्य करने का संस्कार बचपन में उन्होंने मुझे दिया । अन्तिम क्षणों में उनके दर्शन की हार्दिक इच्छा थी , परन्तु वैश्विक महामारी कोरोना वायरस के खिलाफ देश की लड़ाई को उत्तर प्रदेश की 23 करोड़ जनता के हित में आगे बढ़ाने का कर्तव्यबोध के कारण मैं न कर सका । कल 21 अप्रैल को अन्तिम संस्कार के कार्यक्रम में लॉकडाउन की सफलता तथा महामारी कोरोना को परास्त करने की रणनीति के कारण भाग नहीं ले पा रहा हूं । पूजनीया माँ , पूर्वाश्रम से जुड़े सभी सदस्यों से भी अपील है कि वे लॉकडाउन का पालन करते हुए कम से कम लोग अन्तिम संस्कार के कार्यक्रम में रहें । पूज्य पिताजी की स्मृतियों को कोटि - कोटि नमन करते हुए उन्हें विनम्र श्रद्धांजलि अर्पित कर रहा हूं । लॉकडाउन के बाद दर्शनार्थ आऊंगा ।

Uttar Pradesh Chief Minister expressed great sorrow and grief over his revered father being Kailash.
Lucknow: April 20, 2020, Uttar Pradesh Chief Minister Yogi Adityanath Ji has expressed great sorrow and grief over his revered father being a Kailashivasi. The Chief Minister said that he is the father of my Purvashram. In my childhood, he gave me the rite of working with honesty in life, hard work, and selfless spirit, dedicated to Lok Mangal. At the last moment, he had a heartfelt desire for his philosophy, but I could not do it because of the duty to pursue the country's fight against the global pandemic Coronavirus in the interest of 23 crore people of Uttar Pradesh. I am not able to participate in the last rites program tomorrow on 21 April due to the success of the lockdown and the strategy to defeat the epidemic corona. Worshipful Mother, there is an appeal to all the members associated with Purvashram that at least people should be in the last rites program while following the lockdown. Greeting the revered father's memories, I am paying him a humble tribute. I will come to see after the lockdown. 





कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

Post Top Ad

Pages